लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   ›   लाइन फाल्ट से बिजली संकट बेकाबू

लाइन फाल्ट से बिजली संकट बेकाबू

Hamirpur Updated Tue, 15 May 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। पारा चढ़ने के साथ ही बिजली संकट भी बेकाबू होता जा रहा है। सोमवार को मुख्यालय समेत कुरारा और ग्रामीण इलाकों में बिजली आपूर्ति गुल रही है। सुमेरपुर के 132केवीए लाइन के फाल्ट को पावर कारपोरेशन के कर्मचारी नहीं खोज पाए। कटौती के साथ ही आए दिन लाइन फाल्ट से बिजली संकट और विकराल हो गई है। उपभोक्ताओं को रोस्टर के अनुसार बिजली नहीं मिल रही है। सबसे ज्यादा असर मुख्यालय और कुरारा में पड़ रहा है। बिजली न मिलने से पेयजल आपूर्ति पर भी असर पड़ रहा है। शुक्रवार को बिजली न मिलने पर अधिवक्ता प्रदर्शन कर चुके है। इसके बाद पावर कारपोरेशन ने ठीक ठाक बिजली सप्लाई दी लेकिन सोमवार को बिजली फिर पुराने रवैये पर आ गई। उपभोक्ताओं का कहना है कि सुमेरपुर औद्योगिक क्षेत्र को 24 घंटे बिजली दी जा रही है। सुमेरपुर से मुख्यालय आने वाली लाइन में अक्सर खराबी रहती है। इससे उपभोक्ताओं को रोस्टर के अनुसार बिजली नहीं मिल रही है। लाइन की खराबी से कुरारा विकासखंड में तालाबों में पानी भरने का काम रुक गया है। अधीक्षण अभियंता वीके मित्तल ने अपर जिलाधिकारी एचजीएस पुंडीर को बताया कि सुमेरपुर से आई 132केवी लाइन में फाल्ट है। कर्मचारी फाल्ट को खोजने में लगे हैं।

ट्रांसफारमर न बदलने पर अनशन की धमकी
हमीरपुर। कुरारा विकासखंड के गांव रिठारी के लोग झुलसाती गर्मी में डेढ़ महीने से बगैर बिजली के गुजर-बसर कर रहे हैं। ट्रांसफारमर फुंकने से बिजली आपूर्ति ठप हो गई है। सोमवार को ग्रामीणों ने डीएम को ज्ञापन देकर तीन दिन में ट्रांसफारमर बदलवाने की मांग की है।

रिठारी गांव के जिला अधिवक्ता संघ के पूर्व अध्यक्ष चंद्रभान सिंह गौर की अगुवाई में गांव के संतोष दीक्षित, नत्थू कुटार, शंकर, छोटे सिंह, राजेश कु मार, रामप्रकाश गुप्ता, विजयपाल कुशवाहा ने डीएम बी चंद्रकला को ज्ञापन दिया। ज्ञापन में बताया कि गांव का ट्रंासफारमर 1 अप्रैल को फुंक गया था। इसके लिए अधिकारियों से कई बार प्रार्थना पत्र दिया लेकिन अफसरों के कानों में जूं तक नहीं रेंगी। ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि ट्रांसफारमर नहीं बदला तो आमरण अनशन किया जाएगा।
खंभा व लाइन उखड़ने के बाद भी बिल जारी
हमीरपुर। कुरारा विकासखंड क्षेत्र के कुसमरा गांव में बिजली खंभे और लाइन न होने के बाद भी उपभोक्ताओं को बिल भेजा जा रहा है। लोगों ने अधिशासी अभियंता को प्रार्थना पत्र देकर लाइन नहीं लगने की अवधि का बिल माफ करने की मांग की है। इस पर अधिशासी अभियंता ने एसडीओ व जेई से रिपोर्ट मांगी है।
कुसमरा गांव के राजाराम ने अधिशाषी विद्युत नन्नू सिंह को प्रार्थना पत्र देकर बताया कि उसने 2002 में घरेलू कनेक्शन लिया था और वह समय से बिल भी दे रहा है लेकिन 2004 में इस क्षेत्र के लाइनमैन सलीम ने तीन पोल हटवा कर लाइन उतार ली। बिजली न मिलने के बावजूद उनके पास बिल भेजे जा रहे है जबकि उनको 8 साल से बिजली नहीं मिली। इस लाइन पर उसके अलावा कामता प्रसाद का भी कनेक्शन था लेकिन उसको भी मनमानी बिल भेजा गया है। उपभोक्ताओं ने अधिशाषी अभियंताओं से इन 8 वर्षों का बिल माफ करने की मांग की है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00