लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   ›   खेतों पर टावर लगाने का मांगा मुआवजा

खेतों पर टावर लगाने का मांगा मुआवजा

Hamirpur Updated Tue, 08 May 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। कुरारा विकासखंड के जलेखा गांव में टावर लगाने के लिए किसानों की जमीन पर गड्ढे खुदवा दिए गए हैं लेकिन उन पर टावर नहीं लगाए गए। किसानों को जमीन का मुआवजा भी महाराष्ट्र पावर ट्रांसमिशन लिमिटेड ने नहीं दिया है। इस पर किसानों ने अपर जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर मुआवजा देने की मांग की है।

मालूम हो कि बुंदेलखंड क्षेत्र क ो बिजली मुहैया कराने के लिए इलाहाबाद से झांसी तक 400 केवी लाइन बिछाने का काम दो साल से चल रहा है। बीते वर्ष तीन खेतों पर पावर कारपोरेशन ने टावर खड़े करने को गड्ढे खुदवा दिए। किसानों ने अपर जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर मुआवजा देने के बाद काम शुरू कराने की मांग की है।

विकासखंड कुरारा के जखेला निवासी बालकृष्ण सिंह व अरिमर्दन सिंह और इंद्रजीत ने बताया कि गाटा संख्या 194 व 104 में उनके खेत हैं। बीते एक वर्ष पूर्व कंपनी के ठेकेदारों ने उनके खेतों पर टावर खड़े करने को गड्ढे खुदवा दिए। इससे करीब 2-2 बीघे जमीन की फसलें कटवा दी गईं। उन्होंने बताया कि खुदाई के समय काम कराने वाले उनके खेतों की खसरा खतौनी भी ले लिए थे। जमीन और फसल क्षति का मुआवजा 90 में देने की बात कही थी। किसानों ने एडीएम एचजीएस पुंडीर को दिए शिकायती पत्र में कहा है कि मौजूदा समय में टावर बनाने के लिए सामग्री डालने के साथ निर्माण भी शुरू हो गया है लेकिन उन लोगों को मुआवजा का भुगतान नहीं किया गया है। खेत में मिट्टी के ढेर लगे होने से जुताई बुआई करके फसल नहीं जा सकती है। किसानों ने संबंधित विभाग से मुआवजा दिलाने की मांग की है। उधर अपर जिलाधिकारी ने बिजली विभाग के अधिशाषी अभियंता वेदप्रकाश को मुआवजा देने के निर्देश दिए हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00