विज्ञापन

िजलाधिकारी को ज्ञापन दे लेखपालों ने रखीं समस्याएं

Hamirpur Updated Tue, 08 May 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। उप्र लेखपाल संघ जिलाधिकारी को 11 सूत्री ज्ञापन सौंपकर समस्याएं दूर करने की मांग की। संघ ने अवशेष देयक का भुगतान कराने, क्राप कटिंग व कृषि गणना संबंधित मानदेय का भुगतान कराने सहित अन्य कार्यों के भुगतान की मांग की है। साथ ही लेखपाल पत्यौरा व राठ के लेखपाल के मामलों के निस्तारण की मांग रखी है।
विज्ञापन
विज्ञापन
सोमवार को लेखपाल संघ ने जिलाधिकारी को दिए गए ज्ञापन में बताया कि जिले में कुल 309 लेखपाल के पद सृजित हैं। इसके सापेक्ष 215 लेखपाल सेवारत हैं जिसमें 30 लेखपाल विभिन्न कार्यालयों में संबद्ध हैं। ऐसी स्थिति में सिर्फ 185 लेखपाल ही वास्तविक कार्यों का संपादन कर रहे हैं। संघ के जिला सचिव शिवमूरत शुक्ल ने बताया कि एक लेखपाल को 2 से 3 लेखपाली क्षेत्र के कार्य दे रखे गए हैं। इसी तरह संघ ने सेवा संबंधित अभिलेखों को अद्यावधिक कराने, अवशेष देयक का भुगतान, क्राप कटिंग का भुगतान, बीएलओ का भुगतान, भूलेख संबंधित आवश्यक प्रपत्रों की उपलब्धता कराने, मृतक आश्रित के रूप में अनुकंपा नियुक्त किए जाने की मांग रखी गई।
साथ ही पत्यौरा लेखपाल रामकुमार सोनी के साथ मारपीट करने वाले आरोपियों के गिरफ्तार किए जाने तथा राठ के लेखपाल सुरेश कुमार यादव को शातिर अपराधी द्वारा जानमाल की धमकी देने पर पुलिस द्वारा कार्रवाई न करने सहित सुरक्षा के लिए शस्त्र लाइसेंस देने की मांग की गई। इस मौके पर नदंलाल वर्मा, अशोक कुमार गुप्ता, रघुकुल भूषण द्विवेदी, रमाशंकर तिवारी, अर्जुन सिंह यादव, मोहम्मद जाकिर, प्रदीप कुमार तिवारी, चंद्रमोहन शुक्ला, दयाराम वर्मा, लखन लाल सोनी व देवीप्रसाद वर्मा मौजूद रहे।

Recommended

कुंभ मेले में अतुल धन, वैभव, समृधि प्राप्ति हेतु विशेष पूजा करवायें और प्रसाद की होम डिलीवरी पायें
त्रिवेणी संगम पूजा

कुंभ मेले में अतुल धन, वैभव, समृधि प्राप्ति हेतु विशेष पूजा करवायें और प्रसाद की होम डिलीवरी पायें

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

एक के बाद एक झूठे साबित हो रहे EVM हैकिंग के दावे, अब सवालों के घेरे में आई कांग्रेस

लंदन में ईवीएम हैकिंग के हुए दावों पर सवाल उठाने वाली कांग्रेस अब बैकफुट पर नजर आ रही है। एक के बाद एक हैकर सयैद शुजा की पोल खुलती जा रही है। वहीं अब कांग्रेस खुद सवालों में घिरती जा रही है। देखिए ये रिपोर्ट।

23 जनवरी 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree