बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

ग्रामसभा की बैठकों में पेयजल के मुद्दे हावी

Hamirpur Updated Mon, 07 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
मौदहा (हमीरपुर)। गांव सभाओं की आम बैठकों में ज्यादातर पेयजल और खराब सड़कों का मामला उठाया जा रहा है। जलनिगम द्वारा पेयजल के लिए कराए गए कार्य से लोगों को लाभ नहीं पहुंच रहा है। नारायच गांव में बनी पानी की टंकी बह रही है और आधे गांव में पानी की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। बीते वर्ष की सूची में शामिल भमई और लदार गांव में रिबोर के लिए हैंडपंप पड़े हैं। वहीं टिकरी से सिसोलर तक का मार्ग पूरी तरह उखड़ चुका है। जिसके शीघ्र निर्माण की मांग की है।
विज्ञापन

शासन द्वारा निर्धारित तिथियों पर गांव समाज की आम बैठकों में शोसल आडिट के साथ ही सरकारी योजनाओं से लाभान्वित होने वाले लोगों की नामों की सूचियां पढ़ने के साथ इन योजनाओं के लिए नए नामों व कार्यों के प्रस्ताव पारित किए जाने हैं। लेकिन पानी, बिजली व सड़क ऐसे मुद्दे हैं। जिन्हें ग्रामीण इन बैठकों के माध्यम से उठा रहे हैं। गांव लदार में प्रधान ओमप्रकाश यादव ने बताया कि बीते वर्ष पेयजल समस्या निदान के लिए ठप पड़े पांच हैंडपंप रिबोर करने के लिए सूची दी गई थी। लेकिन जलनिगम इस पर ध्यान नहीं दे रहा है और यह हैंडपंप अभी भी ठप है। इसी तरह नारायच गांव प्रधान की खुली बैठक में पेयजल और बिजली का मुद्दा मुख्य रहा। गांव के प्रधान मुनीब खां ने बताया कि उनके गांव में जलनिगम द्वारा पेयजल आपूर्ति की जो योजना बनाई उसका लाभ सभी ग्रामीणों को नहीं मिल रहा है। यहां बनी पानी की टंकी बह रही है। जिसमें छह घंटे भी पानी नहीं टिक पाता है। आधे गांव में ही पाइप लाइन का बिछाई गई है और इनमें भी पानी सभी जगह नहीं पहुंच रहा है। गांव में लगे दो ट्रांसफारमरों में एक कई दिन पहले जल चुका है। जो अभी तक ठीक नहीं हुआ। जिससे आधा गांव अंधेरे में है। जबकि चांदी गांव सभा की आम बैठक में 10 नए हैंडपंपों की स्थापना की मांग का प्रस्ताव पारित किए जाने के साथ ही गांव के मुख्य टिकरी सिसोलर के बुरी तरह ध्वस्त होने पर इसे शीघ्र निर्माण की मांग की है। गांव प्रधान मुखिया भदौरिया ने बताया कि यदि इस मार्ग का निर्माण नहीं होता तो बारिश शुरू होते ही 10 गांवों का आवागमन यहां से ठप हो जाएगा। इन ग्राम सभाओं की बैठक में नोडल अधिकरी एडीओ शिवचरन सिंह भदौरिया व पंचायत सचिव रामसेवक मौजूद रहे। बैठकें जारी हैं और ज्यादातर गांवों में नए हैंडपंपों और पुराने ठप पड़े हैंडपंपों के रिबोर की मांग की जा रही है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us