25 ग्राम समूह पेयजल योजनाओं में दस फ्लाप

Hamirpur Updated Thu, 03 May 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। जलनिगम के अधीन 25 ग्राम समूह पेयजल योजनाओं में 10 फ्लाप हो गई। इन योजनाओं मेंशामिल 25 गांवों के लोगों को पीने का पानी नहीं मिल रहा है। बिजली संकट और गांवों की दूरी अधिक होने की वजह से पेयजल योजना फ्लाप हो रही है। जंगलों व सूनसान स्थानों पर लोग पाइप चोरी कर लेते हैं।
जलनिगम ने दस ग्राम समूह पेयजल योजनाओं में कुल 44 गांव शामिल है। इनमें 25 गांवों के लोगों को पेयजल नहीं मिल रहा है। जलनिगम इटैलियाबाजा योजना के बरौलीखरका, अतरा, चिकासी, इस्लामपुर, बिरहट, बड़ाखरका, जरिया, त्योतना को पानी उपलब्ध नहीं करा रहा है। इसी तरह जिगनी बंगरा योजना से जुड़े धुरौली, चकअमरपुरा, सिकरौधा खरका, बरगढ़, चुरहा, उजनेह, नहदौरा, रहंक, धगवां को पानी नहीं मिल रहा है। पतारा योजना से रिठौरा व नैठी, सायर योजना से भरसवां, पाटनपुर व लोहारी बक्छा योजना से बक्छा, छानी व खैर, सिजनौड़ा योजना से भैस्ता को पेयजल नहीं मिल रहा है। इसी तरह पंधरी, पत्योरा, छानीबुजुर्ग व टेढ़ा गांव की योजनाएं भी पानी देने में असफल है। जलनिगम ने चिकासी, इस्लामपुर व जरिया में नलकूप निर्माण की जरूरत बताई है। इसी तरह चुरहा, रहंक, नैठी, पाटनपुर, बक्छा के छानी तिराहे पर व पत्योरा के मजरों में नलकूप के निर्माण को कहा है। छानीबुजुर्ग गांव में एक और पानी की टंकी बनाने के साथ बंद सभी 25 गांवों में 38 किमी पाइप लाइन को ठीक करे बिना आपूर्ति करना संभव नहीं है। जलनिगम के सहायक अभियंता आरएस विश्वकर्मा का कहना है कि बरौली खरका गांव में नलकूप लगाने का कार्य जिला योजना में शामिल किया है। अभी तक पैसा नहीं मिला है। यह योजना 10 वर्ष पूर्व निर्मित हुई थी। गांवों में 6 से 8 घंटे ही बिजली मिलती है। गांवों की दूरी अधिक होने से पाइप लाइनों की चोरी कर ली जाती है। इसके लिए शासन से 614 लाख रुपए मांगे हैं।

Spotlight

Related Videos

दिल्ली के शिवाजी कॉलेज में शाहिद माल्या की LIVE परफॉर्मेंस

बॉलीवुड के ब्लॉकबस्टर गानों ‘इक कुड़ी’, ‘रब्बा मैं तो मर गया ओए’ और ‘कुक्कड़’ से दिल्ली के शिवाजी कॉलेज की शाम रंगीन हो गई जब इन्हें खुद गाया शाहिद माल्या ने।

18 फरवरी 2018

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen