विज्ञापन

उल्टी दस्त से दो की मौत, तीन दर्जन से अधिक पीड़ित

Bhadohi Updated Fri, 24 Aug 2012 12:00 PM IST
अभोली/सुरियावां। थानाक्षेत्र के मऊरामशाला सहित दर्जन भर से अधिक गांवों में उल्टी दस्त से तीन दर्जन से अधिक लोग बीमार हो गए हैं। इससे पूरे क्षेत्र में हाहाकार मच गया है। मऊरामशाला में उल्टी दस्त सेे एक वृद्ध और एक बालक की मौत हो गई। ग्रामीणों के मुताबिक स्वास्थ्य विभाग की टीमें देर शाम तक मौके पर नहीं पहुंची थीं।
विज्ञापन
विज्ञापन
जिले के कई गांवों में उल्टी दस्त का प्रकोप गहरा गया है। अभोली ब्लॉक क्षेत्र में इस रोग से तीन दर्जन से अधिक लोग बीमार हो गए हैं। ज्यादातर मरीज निजी चिकित्सालय में उपचार करा रहे हैं। मऊरामशाला में सर्वाधिक प्रकोप देखा जा रहा है। उल्टी दस्त के चलते हरि प्रताप सिंह (65) और अभिषेक शर्मा (6) की कल भोर में मौत हो गई। जबकि गांव के सुजीत सिंह (18), प्रियंका सिंह (23), नीतू सिंह (18), जितेंद्र उपाध्याय (10), भरत सिंह (15), सीमा गुप्ता (25), वंदना देवी (30), करिया सिंह (15) आदि सहित बड़ी संख्या में लोग शामिल हैं। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में राधा देवी (60) पुत्री दिनेश उपाध्याय निवासी कौड़र, गिरजा शकर (60) निवासी माटी बरसठी, रागिनी (2) निवासी गौरा दुर्गागंज, राहुल (15) निवासी सरायहोला, जुलेखा (55) निवासी भिखारीरामपुर, बीपी सिंह (35) निवासी सनाथपुर, विश्वजीत सिंह (17) निवासी मऊरामशाला, बंदे सिंह (25) निवासी मऊराशाला, सावित्री देवी (50) निवासी कुसौड़ा, प्रियंका (25), नारंगी (3) निवासी विष्णुपुर, सना (4) निवासी विष्णुपुर, बबिता (15) कर्पूरीपुर, निर्मला (20) निवासी बहुता, कोमल (24) सुरियावां, जैनाथ (55) दलारामपुर, छोटू (10) हरिहरपुर, खुशबू (10) निवासी दीनापुर, अमरनाथ (50) हरिहरपुर, शनि (1) वर्ष, विशाल (6), सुरियावां, गीता (27), सीा (22) आदि पीड़ित हैं। इसी तरह एकौनी में नंदिनी (2) वर्ष,, वीनीति (6), बैजंती पांडेय (30) छनौरा, हीरावती (70), कारो जौनपुर, प्रशांत पाल (34), जगदीश यादव गंगारामपुर, किरण तिवारी आदि पीड़ित हैं। दुर्गागंज संवाददाता के अनुसार क्षेत्र के गंगारामपुर में डायरिया का प्रकोप बढ़ने से कई लोग बीमार हो गए हैं। इनका उपचार निजी चिकित्सालयों में चल रहा है। उल्टी दस्त के पीड़ित जोगगीत (30), गीता देवी (40), लालधारी (17), प्रेमा (12), सत्या (8), बड़कऊ बिंद की दो लड़कियां पीड़ित हैं।

इनसेट
गांव में भेजी गई है स्वास्थ्य टीम: सीएमओ
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. जुबैर अहमद ने मऊरामशाला में हरि प्रताप सिंह की मौत को डायरिया के चलते होने से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि बच्चे की मौत डायरिया से हुई मानी जा सकती है। उसे गांव के ही किसी झोलाछाप चिकित्सक को दिखाया गया था। उसके गलत ट्रीटमेंट से बच्चे की जान गई है। इसके लिए उन्होंने उस झोलाछाप चिकित्सक के खिलाफ कार्रवाई की बात भी कही है। बताया कि बृहस्पतिवार को उन्होंने स्वयं मऊरामशाला गांव का दौरा किया। कहा कि गांवों में स्वास्थ्य विभाग की टीम भेज दी गई है। कुओं और हैंडपंपों में ब्लीचिंग पाउडर डलवाया गया है। पानी की गड़बड़ी और खानपान में ध्यान न देने से बीमारी जद में ले रही है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

सत्ता गंवा चुके चौहान का केंद्र की राजनीति पर बड़ा बयान

मध्य प्रदेश में सत्ता गंवाने के बाद पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि वो केंद्र की राजनीति में नहीं आना चाहते।

13 दिसंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree