असलहा लाइसेंस के एक सौ आवेदन अस्वीकार

Bhadohi Updated Thu, 23 Aug 2012 12:00 PM IST
ज्ञानपुर। पिस्टल और रिवाल्वर के लिए आवेदन करने वालों को पुलिस विभाग से जोरदार झटका लगा है। विभाग ने एक सौ से अधिक आवेदनों को शस्त्रत्त् लाइसेंस की संस्तुति नहीं करते हुए इनकी फाइलों को अस्वीकार कर दिया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इन्हें जान माल का कोई खतरा नहीं है। यह रुतबा बढ़ाने और शौक के लिए शस्त्र लाइसेंस लेना चाहते हैं।
कभी सुरक्षा के लिहाज लिया जाने वाला शस्त्रत्त् लाइसेंस वर्तमान समय में शौक और रुतबा का विषय बन गया है। तमाम लोग जहां अपने सुरक्षा के लिए लाइसेंस के लिए आवेदन कर रहे हैं वहीं बड़ी संख्या में ऐसे लोग भी हैं जो सिर्फ शौक के लिए शस्त्र लेना चाहते हैं। जिले भर से साढ़े तीन सौ से अधिक लोगों ने इस वर्ष शस्त्रत्त् के लिए आवेदन किया है। जिलाधिकारी कार्यालय तक फाइल पहुंचने से पहले उसकी विभिन्न स्तरों पर जांच पड़ताल कराई जाती है कि आवेदक का दावा सही है या नहीं। शस्त्रत्त् लाइसेंस के लिए आए आवेदन पत्रों की जांच एसओ, सीओ, एएसपी, स्थानीय अभिसूचना इकाई आदि के स्तरों से स्वीकृत होने के बाद फाइल एसपी कार्यालय से डीएम दफ्तर तक पहुंचती है। इसमें से 100 से अधिक शस्त्रत्त् लाइसेंस के लिए आवेदनों को पुलिस विभाग के विभिन्न कार्यालयों से अस्वीकार कर दिया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इन लोगों ने शौक और रुतबा बढ़ाने के लिए शस्त्रत्त् के लिए आवेदन किया है। इन्हें किसी से जान-माल का कोई खतरा नहीं है। इनके आवेदन को अस्वीकार किया जाता है। पुलिस विभाग से संस्तुति नहीं मिलने से 100 से अधिक आवेदकों को जोरदार झटका लगा है। इन दिनों शस्त्रत्त् लाइसेंस के लिए आए आवेदन पत्रों के निस्तारण का कार्य काफी तेजी गति से किया जा रहा है। आवेदकों के दावे की गहराई से जांच कराई जा रही है। ज्ञात है कि शस्त्रत्त् लाइसेंस में राजनीति भी काफी हावी है। पहुंच और प्रभाव वालों की फाइलें ही मुकाम तक पहुंच पाती हैं। कमजोर पैरवी वालों की फाइल कलेक्ट्रेट पहुंचने के पहले ही रद्दी टोकरी में पहुंच जाती है। वैसे भी जिले में शस्त्रत्त् लाइसेंस की गति काफी धीमी गति से चल रही है। एक से डेढ़ वर्ष के भीतर बमुश्किल आधा दर्जन लोगों को ही शस्त्रत्त् का लाइसेंस जारी किया गया है। दो सौ से अधिक फाइलें लंबे समय से कार्यालयों में लंबित पड़ी हैं। सारी औपचारिकता पूरी हो जाने के बाद भी इनका निस्तारण नहीं हो पा रहा है।

Spotlight

Related Videos

नीरज के नगमे: इस दिन के लिए भी गोपालदास नीरज ने लिखी थी एक कविता

कलम के जादूगर मशहूर कवि गोपाल दास नीरज हमारे बीच नहीं रहे लेकिन वो अपनी रचनाएं हमेशा के लिए हमारे साथ छोड़ गए हैं। अमर उजाला टीवी पर देखिए उनकी कुछ मशहूर रचनाएं।

20 जुलाई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen