विज्ञापन

विधायक की रिहाई न होने से मायूस लौटे समर्थक

Bhadohi Updated Sun, 19 Aug 2012 12:00 PM IST
ज्ञानपुर। विधायक विजय मिश्र की रिहाई शनिवार को न होने के कारण उनका स्वागत करने के लिए नैनी जेल पर जुटे समर्थक मायूस होकर लौट आए। जिले के विभिन्न स्थानों से हजारों की संख्या में विधायक समर्थक सैकड़ों गाडि़यों के काफिले के साथ नैनी जेल पहुंचे थे।
विज्ञापन
विज्ञापन
पूर्व मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी पर जानलेवा हमला करने के आरोप में जेल में बंद सपा विधायक विजय मिश्र को उच्च न्यायालय इलाहाबाद ने शुक्रवार को जमानत दे दी थी। विधायक को शनिवार को नैनी जेल से रिहा होना था। इसके लिए हजारों की संख्या में विधायक समर्थक सैकड़ों वाहनों के काफिले के साथ नैनी जेल पर सुबह ही पहुंच गए थे। दिन भर रिहाई का इंतजार कर रहे समर्थकों को उस समय निराशा हाथ लगी जब पता चला कि परवाना के कागज में गलती से मुकदमा संख्या 427 के स्थान पर 424 अंकित हो गया था। आनन-फानन में परवाना के कागज को संशोधन के लिए हाईकोर्ट भेजा गया, लेकिन समय बीत जाने के कारण अब संशोधन मंगलवार को होगा। इसके बाद ही रिहाई हो सकेगी। इसकी जानकारी होते ही समर्थक निराश लौट गए। जेल पर स्वागत करने के लिए पूर्व विधायक शारदा प्रसाद बिंद, लालजी यादव, विधायक प्रतिनिधि कृष्ण कुमार यादव, कमला शंकर महतो, सपा जिला महासचिव कुंवर प्रमोद चंद्र मौर्य, ओम प्रकाश यादव, ब्रह्मजीत शुक्ल, सपा ब्राह्मण सभा के जिलाध्यक्ष धर्मेंद्र कुमार मिश्र पप्पू, सपा नेता मेवालाल यादव, नेमधर दूबे, शिवसागर शुक्ल, ऋषि सिंह बघेल, आसिफ खां, मंटू सिंह, अरुण कुमार मौर्य, छोटे तिवारी, पप्पू तिवारी, भोला तिवारी, सपा के पूर्व जिला महासचिव नंदलाल पांडेय, ज्ञानू पांडेय, सभासद नंदलाल मौर्य बल्ला, राजेश परदेशी, मुन्ना तिवारी, बुल्ले तिवारी, कड़ेदीन तिवारी, देव नारायण बिंद आदि सहित तमाम सपा नेता वाहनों के काफिले के साथ नैनी जेल पर पहुंचे थे। पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती रामलली मिश्रा और विधायक पुत्री श्रीमती सीमा मिश्रा ने विधायक के स्वागत के लिए नैनी जेल पहुंचने वाले समर्थकों के प्रति आभार जताया और उनको हुई परेशानी के लिए खेद जताया।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

VIDEO: सीएम योगी के खिलाफ बगावत, 24 दिसंबर से यूपी के ये मंत्री करेंगे अनशन

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही है। लोकसभा चुनाव से महज कुछ महीने पहले उनके कैबिनेट मंत्री ओपी राजभर ने बगावत कर दी है। ओपी राजभर अपने कार्यकर्ताओं के साथ 24 दिसंबर से अनशन पर बैठ रहे हैं।

18 दिसंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree