बर्खास्त रोजगार सेवक से कराई चुनाव ड्यूटी

Bhadohi Updated Sat, 18 Aug 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ज्ञानपुर। औराई विकास खंड के ग्राम परानापुर में रोजगार सेवक बर्खास्तगी का एक रोचक मामला सामने आया है। इसमें सभी जांच में ग्राम पंचायत की बात का समर्थन करने वाले सभी अधिकारियों को रोजगार सेवक ने विधानसभा चुनाव में ड्यूटी का दावा कर कटघरे में खड़ा कर दिया है। अब जिला स्तर पर अधिकारियों से न्याय न मिलने की उम्मीद छोड़ कर रोजगार सेवक ने न्यायालय की शरण में जाने के लिए कमर कस लिया है।
विज्ञापन

परानापुर के ग्राम प्रधान की ओर से रोजगार सेवक को एक साल पहले कार्य में लापरवाही के आरोप में मुक्त करने का दावा किया गया है। दावा यह भी किया गया कि रोजगार सेवक को जानकारी के लिए उसके घर पर नोटिस चस्पा कर दिया गया था। बर्खास्तगी की बात से घबराए रोजगार सेवक ने जांच के लिए डीएम को प्रार्थना पत्र दिया था। डीएम के आदेश से जांच में बीडीओ, डीडीओ और पीडी, सीडीओ ने ग्राम पंचायत की बात मानते हुए उसे बर्खास्त मान लिया है। दूसरी तरफ रोजगार सेवक का दावा है यह सब हमारे खिलाफ साजिश की जा रही है। सेवा से मुक्त करने के लिए जिस समय का दावा किया जा रहा है वह सरासर झूठा है। अगर उसे बर्खास्त ही किया गया था तो बीते विधानसभा चुनाव में उससे मतदान ड्यूटी क्यों कराई गई। उसके पास चुनाव में ड्यूटी का कार्ड मौजूद है। उसने किस आधार पर बर्खास्त किया गया है, इसके लिए डीएम को प्रार्थना पत्र देने के साथ ही न्यायालय की शरण लिया है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us