अलविदा की नमाज से पूर्व मस्जिदों में हुई तकरीरें

Bhadohi Updated Sat, 18 Aug 2012 12:00 PM IST
औराई/गोपीगंज। अलविदा जुमा की नमाज से पूर्व जिले भर की मस्जिदों में इमामों ने तकरीर कर मुसलमानों को नेक रास्ता अपनाने की अपील की। समय से पहले मस्जिदों में पहुंचे रोजेदारों, मुसलमानों ने इमामों की तकरीरों को इत्मीनान पूर्वक सुना। घोसिया स्थित बाबा लतीफ शाह मस्जिद में तकरीर करते हुए मौलाना मोबिन अहमद ने कहा कि ईद खुशी का भी दिन है और गम का भी दिन है। बताया कि ईद के दिन मदीने शरीफ में लोग हजरते उमर फारूक रजि. अन्हो की दरबार में हाजिर हुए तो आप दरवाजा बंद कर जारो कतार रो रहे थे। लोगों ने हैरान हो करअर्ज किया कि या अमीरूल मोमिनीन आज तो ईद का दिन है खुशी का दिन है, खुशी की जगह रोना कैसा। हजरत उमर फारूक ने आंसू पोछते हुए फरमाया ऐ लोगों यह ईद का दिन है और वहीद का दिन है। आज जिनके नमाज रोजा कबूल हो गए बिलासुबा उसके लिए ईद का दिन है। जिनके नमाज रोजा मरदूद करके उसके मुंह पर मार दिया गया है। उसके लिए वईद का दिन है मैं इसी खौफ से रो रहा हूं। इस मौके पर डा. अख्तर अली, एनुल हक, हाजी मोहम्मद गाजी, निसार अहमद, इम्तियाज, इख्तियार आदि मौजूद रहे। इसी तरह गोपीगंज में भी जामा मस्जिद में मौलाना निजामुद्दीन ने तकरीर की। इस दौरान उन्होंने लोगों से अपील किया कि गरीब, मिस्किीन और यतीम बच्चों को नया कपड़ा पहना कर उनकी मदद करते हुए ईद मनाएं। इसके बाद नमाज खत्म होने पर इमाम ने नगर, मुल्क की खुशहाली, तरक्की और अमन चैन की दुआ मांगी। लोगों ने आमीन कहकर अल्लाह पाक से दुआ कबूल कर लेने की इल्तिजा की।

Spotlight

Related Videos

दिल्ली में किया पुलकित और कृर्ति ने 'वीरे की वेडिंग' का प्रमोशन

फिल्म 'वीरे की वेडिंग' के प्रमोशन के लिए पुलकित सम्राट और कृति खरबंदा गुरुवार को दिल्ली पहुंचे। यहां पुलकित ने 'वीरे की वेडिंग' और 'वीरे दी वेडिंग' के विवाद पर जवाब दिया तो कृति ने अपनी सफलता पर जमकर बात की।

23 फरवरी 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen