खराब सड़कें बनीं कालीन नगरी की पहचान

Bhadohi Updated Wed, 15 Aug 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ज्ञानपुर। डालरी नगरी के नाम से मशहूर जनपद संत रविदास नगर भदोही की पहचान अब जगह-जगह खराब, जर्जर और गड्ढेयुक्त सड़कें भी बन गई हैं। छोटे से लेकर बड़े मार्ग सहित राष्ट्रीय राजमार्ग भी क्षतिग्रस्त अवस्था में है। सभी सड़कें अपने आस्तित्व के संकट दौर से गुजर रहे हैं। जिले में जीटी रोड, जिला मुख्यालय आवागमन का भदोही-गोपीगंज-ज्ञानपुर मार्ग, खमरिया से माधोसिंह, चेतगंज और लालानगर मार्ग, जिले की सीमा ऊंज से लेकर कुरमैचा मार्ग, अभोली से छनौरा मार्ग, चंदापुर से जोगापुर मार्ग, ज्ञानपुर में पुरानी कलेक्ट्री से बालीपुर मार्ग, चकचंदा कसियापुर मार्ग, दुर्गागंज सुरियावां मार्ग सहित जिले की अन्य कई मार्ग शामिल हैं। यहां तक की राष्ट्रीय राजमार्ग दो भी गड्ढा से भर गया है। गोपीगंज जीटी रोड बड़ा चौराहा से लेकर मिर्जापुर रोड त्रिमोहानी तक की सड़क गड्ढे से भर गई है। मिर्जापुर जीटी रोड तिराहा के पास बना विशाल गड्ढा वाहनों के लिए दुर्घटना का कारण बन रहा है। गड्ढा इतना बड़ा और गहरा है कि ट्रक और बसों के पहिए तक उसमें समा जाते हैं। इसके चलते कभी गंभीर हादसा हो सकता है। बरसात में गड्ढों के भर जाने पर अनजान चालक गड्ढे में वाहन लेकर फंस जाते हैं इसके चलते घंटों जाम की स्थिति बनी रहती है। इन पर आवागमन वाले राहगीरों को कीचड़, गड्ढे, बोल्डर, जलजमाव से सामना करना पड़ता है। बाइक, साइकिल सहित चार पहिया वाहनों से ही क्यों न आवागमन करे, उन्हें हर हाल में फजीहत उठानी ही पड़ती है। सड़कों को दुर्दशा से मुक्ति दिलाने के लिए किसी पक्ष से मजबूत पहल न होने से इनके अस्तित्व पर ही संकट आ गया है। मरम्मत के नाम पर लेपन कार्य की खानापूर्ति की जाती है। इससे सड़क शीघ्र पुराने हाल में आ जाते हैं। जिले की कई सड़के निर्माण के दशक भर से अधिक समय बीत चुके हैं, मरम्मत न होने से दुर्दशा झेल रहे हैं। यहां तक कि भाजपा, बसपा और सपा की सरकार रही हो। किसी दल के जन प्रतिनिधियों ने सड़कों की दशा सुधारने की सुधि नहीं ली। चुनाव में दूसरे दल को इन मुद्दों पर कोसते हैं। सत्ता में आने पर अपने कोष से भी सड़क मरम्मत की नहीं सोचते हैं। जिला प्रशासन की ओर से भी जिले की बीमार सड़कों पर नजरें इनायत नहीं की जाती है। इससे जिले की पहचान कालीन व्यवसाय के साथ खराब सड़के भी बन गई है। मांग करने, आंदोलन करने के सहित हर तरह की प्रयास नाकाफी साबित हो रहे हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us