कृषि क्षेत्र में स्वरोजगार की अपार संभावनाएं

Bhadohi Updated Wed, 15 Aug 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

चौरी। क्षेत्र के मानिकपुर ग्राम स्थित जीबी पंत फाउंडेशन स्कूल में मंगलवार को कृषि अनुसंधान केंद्र बेजवां की ओर से छात्र-छात्राओं को कृषि संबंधी जानकारी दी गई। केंद्र की ओर से छात्र-छात्राओं को कृषि क्षेत्र में स्वरोजगार की संभावनाओं के बारे में बताया गया। कृषि विशेषज्ञ डा. राजेंद्र प्रसाद, डा. आरपी चौधरी, डा. राकेश पांडेय ने बताया कि डाक्टर, इंजीनियर आदि बनने के बाद भी जितनी रोजगार की संभावनाएं नहीं रहती। उससे अधिक संभावनाएं कृषि क्षेत्र में रहती है। इसे तकनीकी तौर पर अपनाते हुए कैरियर बनाए काफी फायदेमंद रहता है। रोजगार के लिए शिक्षित बेरोजगारों को संघर्ष नहीं करना पड़ता है। कृषि विशेषज्ञों ने बताया कि तकनीकी खेती की बदौलत तमाम किसानों ने सीमित अवधि में वह मकाम हासिल किया है। जहां तक पहुंचने के लिए अधिक दिन मेहनत करने के बाद भी विभिन्न क्षेत्रों में कैरियर बनाए लोग नहीं पहुंच पाते हैं। कहा कि कृषि क्षेत्र में रोजगार की संभावना तलाशना बहुत ही सरल तरीका है। इस मौके पर प्रधानाचार्य श्रीराम सिंह ओमप्रकाश मिश्र, सतीश दुबे, तरुण पांडेय, आदर्श यादव, कमल दुबे, फुलेंद्र यादव, सुभाष दुबे, प्रीती श्रीवास्तव, राजकुमार उपाध्याय, सरिता मौर्य आदि मौजूद रहे।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us