मंदिर से चोरी का खुलासा, पांच गिरफ्तार

Bhadohi Updated Wed, 15 Aug 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

कौलापुर। गोपीगंज नगर के ज्ञानपुर रोड स्थित राधा-कृष्ण मंदिर से हुई मूर्तियों की चोरी का खुलासा करने का दावा पुलिस ने किया है। पुलिस ने इस मामले में छह आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से पीली धातु की तीन मूर्ति सहित चोरी की एक बाइक और एक कार बरामद की गई है। सभी आरोपियों को पुलिस ने जेल भेज दिया है। इसका खुलासा गोपीगंज पुलिस ने मंगलवार को किया।
विज्ञापन

नगर पालिका परिषद गोपीगंज के पीछे स्थित श्रीराधा कृष्ण मंदिर का दरवाजा 12 जनवरी 2011 को तोड़कर चोर अष्टधातु की राधा और कृष्ण की दो बड़ी मूर्तियों के साथ पीली धातु की हनुमानजी, दुर्गा जी और लक्ष्मी की तीन छोटी कुल पांच मूर्तियां उठा ले गए थे। इस मामले में अज्ञात चोरों के खिलाफ थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था। जांच में जुटी पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर थानाध्यक्ष गोपीगंज रमेश चौबे, थानाध्यक्ष ऊंज प्रेम यादव और चौकी इंचार्ज गोपीगंज रामाश्रय यादव ने हमराहियों के साथ त्रिभुवनपुर नहर के पास सोमवार की रात को नाकेबंदी करके छह मुश्ताक अहमद और अतीक अहमद निवासी अमवा थाना गोपीगंज, मुहम्मद वाहिद निवासी चुडि़हारी मुहाल गोपीगंज, राकेश सेठ और अमरेश सेठ निवासी हरदेवपुर थाना गोपीगंज को गिरफ्तार कर लिया। इनके पास से पीली धातु की तीन छोटी मूर्तियां, एक टीवीएस स्टार मोटर साइकिल और एक इस्टीम कार के अलावा मय कारतूस तीन तमंचा बरामद किया। कड़ाई से पूछताछ करने पर आरोपियों ने राधाकृष्ण मंदिर गोपीगंज, बरसठी जौनपुर और सैनी कौशांबी आदि मंदिरों से करीब दर्जन भर मूर्तियों के अलावा कई वाहन के चोरी की बात कबूली। आरोपियों ने पुलिस को बताया कि नगर पालिका के पीछे स्थित मंदिर से चोरी की गई अष्टधातु की राधा और कृष्ण की मूर्ति को उन लोगों ने गला दिया था जिसमें तीन प्रतिशत सोना निकला। उस सोने 85 हजार रुपये में बेच दिया गया है। इनके द्वारा सैनी और जौनपुर के बरसठी के मंदिरों से चोरी की गई मूर्तियों को बेचने के लिए मुंबई ले जाया गया था जहां पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया था। यह मूर्तियां सैनी थाने में पुलिस के हवाले हैं।
ज्ञात है कि राधा-कृष्ण की मूर्ति की चोरी के विरोध में पूरे नगर में उबाल आ गया था। आक्रोशित नागरिकों ने धरना प्रदर्शन और सड़क जाम कर दिया था। मामले के खुलासे के लिए विहिप नेता धर्मेंद्र द्विवेदी दस दिनों तक अनशन पर बैठे रहे। बाद में उनकी हालत नाजुक होने पर पुलिस ने उन्हें उठा लिया और उनका अनशन तोड़वाया गया। मूर्ति चोरी का खुलासा होने पर श्री मंगलम सेवा सेवा समिति के अध्यक्ष कृष्ण कुमार उर्फ खटाई नेता, व्यापार मंडल के प्रदेश मंत्री रमाकांत गुप्ता आदि ने प्रसन्नता जताते हुए पुलिस टीम को बधाई दी है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us