दो हजार एकड़ फसल जलमग्न

Bhadohi Updated Fri, 10 Aug 2012 12:00 PM IST
दुर्गागंज। इलाके के लगभग दो दर्जन गांवों में वरुणा नदी का कहर लोगों के लिए मुसीबत बन चला है। तकरीबन दो हजार एकड़ धान और खरीफ की फसल जलमग्न हो चुकी है और पानी बस्ती की ओर बढ़ रहा है। इससे सीमावर्ती गांवों में लोगों की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं।
नदी की खोदाई न होने और मछली मारने के लिए जगह-जगह मछुआरों द्वारा लगाए गए जाल से वरुणा का पानी क्षेत्र में किसानों की मेहनत को बर्बाद कर रहा है। प्रयागपुर, बड़ाकठार, तुलसीपुर, छोटा कठार, पचपट्टी, हंडा, भुजैनी, पांडेयपुर, महुअरिया, शेरपुर, नवलपुर, करनपुर, हरदुआ, जोगापुर, बरबसपुर, रामनगर, खेमापुर, सराय कंसराय और मानीडीह आदि गांवों में वरुणा का पानी फसल डुबो रहा है। इसकी मुख्य वजह नदी की काफी दिनों से खोदाई न होना माना जा रहा है। इससे इलाके के ग्रामीणों में रोष है। ग्रामीणों का कहना है कि इलाके में नदी ज्यादा गहरी नहीं है। इसके कारण पानी बढ़ता है तो वह खेतों में बोई गई फसलों को नुकसान पहुंचाता है। खोदाई कर दी गई होती तो पानी बाहर नहीं जाता। इसके अलावा मछुआरों की ओर से जहां-तहां लगाया गया जाल और प्लास्टिक से पानी का प्रवाह बाधित हो रहा है। इससे भी पानी के खेतों की ओर बढ़ने में मदद मिल रही है। जिले की सीमा में वरुणा नदी लगभग 40 किलोमीटर का फासला तय करती है। ग्रामीणों की शिकायत पर दुर्गागंज और सुरियावां के थानाध्यक्षों ने जाल लगाकर रोके जा रहे पानी के मुद्दे पर कार्रवाई की बात कही है, लेकिन आम आदमी की दुश्वारियां कम होने का नाम नहीं ले रहीं।
प्रधान ने मंत्री को बताई कटान की समस्या
अमर उजाला ब्यूरो
ज्ञानपुर। औराई विकास खंड के बरजी कला के ग्राम प्रधान शिव भूषण उपाध्याय गोपाल ने लखनऊ स्थित ग्राम्य विकास मंत्री स्वतंत्र प्रभार अरविंद सिंह गोप से उनके आवास पर मिलकर गांव में हो रही कटान की समस्या से अवगत कराया। मंत्री ने उचित कार्रवाई का भरोसा दिया है। ग्राम प्रधान ने मंत्री को दिए प्रार्थना पत्र में कहा है कि गंगा की धारा प्रतिदिन गांव की मिट्टी को काट रही है। इससे गांव के सामने भुखमरी की स्थिति पैदा हो गई है। साथ ही गंगा के किनारे रहने वाले लोगों का जनजीवन भी खतरे में है। उपजाऊ मिट्टी के गंगा में समाहित हो जाने से किसानों के समक्ष भी रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है। प्रधान के मुताबिक मंत्री ने उचित कार्रवाई का भरोसा दिया।

Spotlight

Related Videos

वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम समिट से जुड़ी 10 बाते जो है आपके लिए जानना जरूरी

विश्व आर्थिक फोरम (डब्ल्यूईएफ) की बैठक स्विटजरलैंड के शहर दावोस में आयोजित है। पीएम मोदी 21 साल बाद दावोस जाने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री हैं। लेकिन ये दावोस या डब्ल्यूईएफ समिट क्या है?

22 जनवरी 2018

Recommended

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper