हर रास्ते शिवालय की ओर

Bhadohi Updated Tue, 17 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ज्ञानपुर। सावन के दूसरे सोमवार को कालीन नगरी की आबोहवा शिवमय हो गई। हर-हर महादेव के उद्घोष से मंदिर और शिवालय गूंज उठे। भोलेनाथ के जलाभिषेक के लिए निकले कांवरियों के जत्थों से सड़कें भगवामय नजर आईं। देवस्थानों में धूप-दीप की भीनी-भीनी सुगंध वातावरण को भक्तिमय बनाती रही। जिले के तकरीब डेढ़ दर्जन प्रमुख शिवालयों पर हजारों श्रद्धालुओं ने महादेव की आराधना की। सेमराधनाथ धाम में 20 हजार से अधिक शिवभक्तों के जलाभिषेक करने का अनुमान लगाया गया। इसमें कांवरियों के अलावा अन्य श्रद्धालु भी शामिल रहे। इसके अलावा ज्ञानपुर स्थित हरिहरनाथ मंदिर, गोपीगंज के बड़े शिव, तिलेश्वरनाथ, पांडव आदि मंदिरों में सुबह से ही श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा।
विज्ञापन

सावन के सोमवार को महादेव के जलाभिषेक के लिए बड़ी तादाद में लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। शिवालयों के गर्भगृह फूल, माला, बेलपत्र और धतूरे से पट गए। ज्ञानपुर जिला मुख्यालय की सड़कें सोमवार को कांवरियों और शिवभक्तों की भीड़ से पटीं नजर आईं। गोपीगंज-ज्ञानपुर-भदोही मुख्य मार्ग पर दिनभर जाम की स्थिति बनी रही। शिवालय घंटै-घड़ियाल की ध्वनि से गूंजते रहे। महिलाओं ने व्रत रखकर शिव आराधना की। सुबह से ही मंदिरों में जल चढ़ाने का सिलसिला शुरू हो गया था। घर पर पूजन-अर्चन के बाद महिला श्रद्धालुओं ने मंदिर पहुंचकर गौरीशंकर को श्रद्धा भेंट की। जीटी रोड कांवरियों की भीड़ से गुलजार रहा। उधर काशी में विराजमान विश्वनाथ तो दूसरी ओर सेमराधधाम में जलाभिषेक के लिए कांवरियों का आने-जाने का सिलसिला दिनभर चलता रहा। शिव मंदिर वैदिक मंत्रोच्चार से गूंजते रहे। श्रद्धालुओं की भीड़ देख एकबारगी लगा कि सभी रास्ते शिवालयों की ओर हो गए हैं। सोमवार के व्रत के कारण फलों की मांग बढ़ गई। इससे उनकी कीमतों में इजाफा हो गया। सामान्य दिनों की अपेक्षा फलों की कीमतें ज्यादा रहीं।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us