बारिश के साथ ही धान की रोपाई शुरू

Bhadohi Updated Sat, 14 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ज्ञानपुर। खरीफ की मुख्य फसल धान की रोपाई का कार्य तेजी से चल रहा है। खेतों में डाली गई नर्सरी तैयार हो चुकी है और बरसात शुरू होने के साथ ही धान की रोपाई शुरू कर दी गई है। जून में संतोषजनक बारिश न होने के कारण धान की रोपाई का कार्य जुलाई में शुरू किया गया है।
विज्ञापन

जिले में 27 हजार 635 हेक्टेयर भूमि पर धान की खेती की जा रही है। हरित क्रांति योजना के तहत धान की फसल का विशेष प्रदर्शन करने के लिए जिले में पांच हजार हेक्टेयर भूमि आच्छादित की गई है। विकास खंड सुरियावां और अभोली में पांच-पांच सौ हेक्टेयर के अलावा विकास खंड भदोही, ज्ञानपुर, औराई और डीघ ब्लाक में एक-एक हजार हेक्टेयर भूमि पर प्रदर्शन किया जा रहा है। इस वर्ष जून में अच्छी बारिश न होने के कारण धान की फसल पिछड़ गई है। ऐसी स्थिति में जुलाई और अगस्त में यदि अच्छी बरसात हो गई तो इसकी भरपाई की जा सकती है। पिछले वर्ष जून माह में 263 मिली लीटर बर्षा दर्ज की गई थी, जो इस वर्ष शून्य रही। जुलाई माह में रुक-रुककर हो रही बारिश से धान की फसल अच्छी होने की संभावना जताई जा रही है। जुलाई और अगस्त माह में यदि अच्छी बरसात हो गई तो धान की पैदावार संतोषजनक हो सकती है। उप कृषि निदेशक डॉ. आरएस यादव का कहना है कि जिले में धान की खेती समय से चल रही है। इसी तरह बरसात जुलाई और अगस्त माह में होती रही तो धान की अच्छी पैदावार हो सकती है। उन्होंने कहा कि खरीफ की फसल में खर पतवारों की बहुलता हो जाती है। खर-पतवार के उन्मूलन के लिए कृषि रक्षा इकाइयों में 50 फीसदी अनुदान पर बीडी सार्टेड उपलब्ध है। इसका प्रयोग करके किसान खर-पतवार पर नियंत्रण कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि जिले में पर्याप्त उर्वरक मौजूद हैं। किसी दुकान से यदि बोरी पर छपे प्रिंट रेट से अधिक मूल्य पर बेचा गया तो कार्रवाई की जाएगी।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us