विज्ञापन

रिश्तेदार की चाट खा कर पूरा परिवार अचेत

Bhadohi Updated Sat, 14 Jul 2012 12:00 PM IST
ऊंज। सीकीचौरा गांव में एक रिश्तेदार द्वारा लाई गई खाने-पीने की चीजें खाकर एक ही कुनबे के सात लोग अचेत हो गए। एक-एक कर सभी की तबीयत बिगड़ती गई और गांव में हड़कंप मच गया। इसके बाद रिश्तेदार बाइक लेकर फरार हो गया। जानकारी मिलने के बाद गांव के प्रधान ने उन्हें गोपीगंज स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। यहां उपचार के बाद पांच लोगों की हालत में तो कुछ सुधार हो गया, लेकिन दो किशोर देर शाम तक अचेत अवस्था में पड़े रहे। चिकित्सकों ने खाद्य सामग्री में नशीला पदार्थ मिले होने की बात कही है। मामले की तहरीर पुलिस को दे दी गई है।
विज्ञापन
विज्ञापन
सीकीचौरा ग्रामसभा निवासी आशाराम बिंद रोजीरोटी के सिलसिले में मुंबई में रहता है। घर में पत्नी और बच्चे रहते हैं। बृहस्पतिवार की शाम को आशाराम के घर पर मिर्जापुर जिले के चील्ह थानाक्षेत्र के बलुआ बेलवरिया गांव का रहने वाला एक रिश्तेदार (साढ़ू का दामाद) आया था।
घर में कुछ देर रुकने के बाद वह बाजार की तरफ गया और बाजार से चाट का पैकेट, कोल्ड ड्रिंक्स की बोतल और मिठाई लेकर आया। बताते हैं कि परिवार के सभी सदस्यों ने भोजन के पहले युवक द्वारा लाई गई खान-पान सामग्री का सेवन किया।
इसके कुछ देर बाद परिजनों की तबीयत बिगड़ने लगी। हालत बिगड़ने के कुछ देर बाद सभी सदस्य बेहोश हो गए। इसमें आशाराम की पत्नी फोटो देवी (50), पुत्र अरविंद कुमार (25), बहू रिंकी देवी (23), पुत्री अंजू देवी (22), पुत्र अजय कुमार (20), ननकू (18) और सूरज (16) शामिल थे। बेहोश होने की जानकारी पास-पड़ोस के लोगों और ग्रामप्रधान अरुण पांडेय को लगभग रात के साढ़े 12 बजे हुई।
उन्होंने तत्काल सभी लोगों को बेहोशी की हालत में गोपीगंज स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। रातभर चले उपचार के बाद सुबह दस बजे तक फोटो देवी, अरविंद, रिंकी देवी, अंजू देवी, अजय कुमार को होश आ गया था, लेकिन ननकू और सूरज को देर शाम तक होश नहीं आ सका था। चिकित्सकों ने बताया कि खान-पान की सामग्री में नींद की गोली अधिक मात्रा में मिलाई गई थी।
उधर परिजनों के बेहोश होते ही रिश्तेदार बाइक लेकर रात में ही फरार हो गया। आशाराम के परिजनों ने युवक के खिलाफ ऊंज थाने में तहरीर दे दी है। समाचार दिए जाने तक पुलिस तहरीर लेकर मुकदमा पंजीकृत करने के लिए मेडिकल रिपोर्ट के इंतजार में थी। घटना के बाद रिश्तेदार के फरार हो जाने से कई सवाल खड़े हो गए। ग्रामीणों का कहना था कि उसकी यह हरकत संदेह पैदा कर रही है।

Recommended

क्या कारोबार में लगाया हुआ धन फंस जाता है ? करें उपाय
ज्योतिष समाधान

क्या कारोबार में लगाया हुआ धन फंस जाता है ? करें उपाय

जानें क्यों कायम है आपकी नौकरी पर संकट?
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों कायम है आपकी नौकरी पर संकट?

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

अनिल अंबानी ने चुकाया एरिक्सन का बकाया, बड़े भाई मुकेश अंबानी ने की मदद

आरकॉम के चेयरमैन अनिल अंबानी ने सुप्रीम कोर्ट की डेडलाइन पूरी होने के एक दिन पहले एरिक्सन का बकाया चुका खुद को जेल जाने से बचा लिया।

19 मार्च 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree