विज्ञापन

कालीन नगरी पर सूखे की छाया

Bhadohi Updated Wed, 04 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ज्ञानपुर। मानसून की लेटलतीफी जिले के किसानों के लिए अभिशाप बनने वाली है। धान की तैयार नर्सरियां सूखने की कगार पर हैं। बरसात का दूर-दूर तक कोई आगम नहीं है। खेतों में धूल उड़ रही है। आषाढ़ खत्म हो गया। ऐसे में जिले पर सूखे का खतरा मंडराने लगा है।
विज्ञापन
मानसून की बेवफाई से जिले के किसानों की हालत खस्ता हो चुकी है। अषाढ़ बीतने के बाद भी आसमान से आग बरस रही है खेतों में उड़ रही है धूल। जानकारों का कहना है कि सप्ताह भर और यही हाल रहा तो जनपद सूखे की जद में आ जाएगा। क्योंकि तब तक धान की खेती काफी लेट हो जाएगी। इसको लेकर जिले के किसान, व्यापारी, कृषि वैज्ञानिक, उद्यमी और बुद्धजीवियों आदि चिंता देखी जा रही है। हर कोई बारिश की आस में टकटकी लगाए है। अब तो बरसात के लिए तमाम तरह के टोटके भी आजमाए जाने लगे हैं। जिले में लगातार दो सालों से मानसून किसानों का जिस तरह से साथ दे रहा था, उससे किसानों की बढि़या खेती हुई थी और अच्छा उत्पादन हुआ था। जिले ने लगातार दो सीजन में खरीद के लक्ष्य को भी पार कर लिया है। शुरुआती दौर में इस बार भी मौसम अनुकूल माना जा रहा था, लेकिन मानसून आने की मुकर्रर तिथि गुजर जाने के बाद भी खेतों में धूल उड़ने से किसान चिंतित हो उठे हैं। खरीफ की मुख्य फसल धान के लिए खेतों में डाली गई नर्सरियां सूखने की कगार पर पहुंच चुकी हैं। बारिश का दूर-दूर तक कोई पता न होने से खेतों में दरारें पड़ गईं हैं। मौसम का मिजाज कुछ ऐसा है कि बारिश होगी कि नही होगी या होगी तो कब तक होगी, यह बता पाने की स्थिति में मौसम के जानकार भी नहीं हैं। मौसम के मौजूदा हालात के मद्देनजर सूखे की स्थिति की ओर बढ़ रहे जिले के किसान सकते में हैं।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

VIDEO: बीजेपी नेता की धमकी से अधिकारी को पड़ा दिल का दौरा

उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में बीजेपी के एक नेता की घमकी और बदसलूकी के बाद नगर निगम में निर्माण विभाग के एक्सईएन अधिकारी बेहोश होकर गिर गए। देखिए रिपोर्ट

19 नवंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree