विज्ञापन

कई गांवों में रातभर गुल रही बत्ती

Bhadohi Updated Wed, 27 Jun 2012 12:00 PM IST
ज्ञानपुर। जिला मुख्यालय से लगे कई गांवों में बीती रात बिजली नहीं रही। रातभर बत्ती गुल रहने के कारण गांवों की हजारों की आबादी घुप अंधेरे में रात गुजारने को विवश हो गई। गर्मी और उमस के साथ-साथ मच्छरों ने भी ग्रामीणों को रातभर परेशान रखा। लखनों, देबाजीतपुर और आसपास के करीब आधा दर्जन गांवों में अंधेरा छाया रहा। बिजली विभाग के कर्मचारियों का कहना था कि लाइन में खराबी के कारण बिजली गुल रही। सोमवार की रात तेज हवा के साथ हुई बूंदाबादी के चलते बत्ती गुल हुई थी। शाम को कटी बिजली सारी रात नहीं आई। अगली सुबह नौ बजे ही बिजली के दर्शन हुए। बता दें कि इलाके में बिजली की समस्या लोगों के लिए सिरदर्द बन गई है। गर्मी और उमस के माहौल में लोग परेशान हो उठे। अशोक कुमार दुबे, अनिल दुबे, महेश शुक्ला, पप्पू, संतोष दुबे, अरविंद पाठक समेत तमाम ग्रामीणों ने बिजली की इस समस्या के प्रति नाराजगी जताई। कहा कि आए दिन होने वाली बिजली की दिक्कतों से जरूरी काम प्रभावित हो रहे हैं। गांवों में बिजली आपूर्ति की हालत बेहद खराब है। विभाग इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है।
विज्ञापन
विज्ञापन

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

जानिए सेना को मिले इस हथियार की खासियत, काफी एडवांस है ये टैंक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस वक्त पश्चिमी भारत के दौरे पर हैं। पीएम मोदी ने मेक इन इंडिया के तहत सूरत के एलएंडटी प्लांट में बना वज्र टैंक सेना को सौंपा। इस दौरान पीएम मोदी ने देश में बने इस खास टैंक की सवारी भी की।

19 जनवरी 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree