कोचिंग संचालक रहस्यमय ढंग से लापता

Bhadohi Updated Mon, 25 Jun 2012 12:00 PM IST
गोपीगंज। नगर के पड़ाव मोहल्ले में कोचिंग सेंटर चलाने वाला एक युवक रहस्यमय ढंग से लापता हो गया है। सुबह बच्चे जब पढ़ने के लिए पहुंचे तो सेंटर का शटर बंद था। उसको खोलने पर कमरे के सामान तितर बितर थे। कोचिंग संचालक के जूते, चप्पल, चश्मा, हेलमेट कमरे में ही थे। बाइक और लैपटाप नदारद था। उसके बड़े भाई ने थाने में तहरीर देकर अपहरण की आशंका जताई है। क्षेत्राधिकारी, थानाध्यक्ष ने मौके पर पहुंचकर पूछताछ की। एसओजी में मामले की छानबीन में जुट गई है।
गोपीगंज थाना क्षेत्र के ककराही (माधोरामपुर) गांव निवासी विभव श्रीवास्तव (30) नगर के पड़ाव पर कई वर्षों से कोचिंग चलाता है। साथ ही चौरी में चार पार्टनरों के साथ मेडिकल एजेंसी भी चलाता है। वह रोज ककराही स्थित अपने निवास पर शाम को भोजन करने जाता था और रात में कोचिंग सेंटर पड़ाव पर ही सोता था। रविवार की सुबह बच्चे जब कोचिंग सेंटर पर गए तो सेंटर का शटर गिरा हुआ था। इससे बच्चे आश्चर्यचकित रह गए। जब लोगों ने शटर उठाया तो कमरे में सामान तितर बितर था और आलमारी और उसका लाकर खुला था। कमरे में कोचिंग संचालक विभव श्रीवास्तव का चप्पल, जूता, चश्मा, हेलमेट आदि पड़ा था, लेकिन लैपटाप और हीरोहोंडा सीडी डीलक्स मोटरसाइकिल गायब थी। बच्चों की सूचना पर विभव के बड़े भाई संदीप श्रीवास्तव मौके पर पहुंच गए। उन्होंने थाने में तहरीर देकर भाई के अपहरण की आशंका जताई है। कहा कि उनका भाई बिना हेलमेट और चश्मा लगाए कहीं निकलता ही नहीं था। उसके चप्पल जूते भी कमरे में ही पड़े हैं। साथ ही सभी मोबाइल नंबर भी बंद हैं। बताया कि दो माह पूर्व कोचिंग सेंटर से 20 हजार रुपये और लैपटाप चोरी हो गया था। जानकारी होते ही एसओ रमेश चौबे, सीओ सुख सागर शुक्ल आदि ने पहुंचकर सेंटर का जायजा लिया और स्थानीय लोगों से पूछताछ की। मामले के खुलासे के लिए एसओजी टीम को भी लगा दिया गया है। उसके सभी नंबरों को सर्विलांस पर लगा दिया गया है साथ ही पुलिस की एक टीम ने चौरी स्थित मेडिकल एजेंसी पर जाकर उनके पार्टनरों से भी पूछताछ कर रही है।

Spotlight

Related Videos

VIDEO: क्या आप इस तस्वीर को देखकर ‘तमाशबीन’ बने रह पाते?

अब आपको तस्वीर दिखाते हैं यूपी के इटावा की। तस्वीर कुछ दिन पुरानी है और जुड़ी है प्यार करने वालों से जो एक दूसरे से शादी करना चाहते थे।

24 फरवरी 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen