टीईटी अभ्यर्थियों से हो रहा है सौतेला व्यवहार

Bhadohi Updated Fri, 22 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

भदोही। प्रदेश की सपा सरकार के गठन को सौ दिन पूरे होने को हैं लेकिन अब तक टीईटी अभ्यर्थियों का भविष्य अधर में ही लटका हुआ है। प्रारंभ में मुख्यमंत्री अखिलेश सिंह यादव ने आश्वासनों की झड़ी लगाकर अध्यर्थियों को राहत प्रदान की थी लेकिन फिर चुप्पी साध लिए जाने से अभ्यर्थियों में असंतोष है। बीएड बेरोजगार संघ के अध्यक्ष अखिलेश प्रकाश पाल ने कहा कि युवाओं और छात्रों को रोजगार देने के नाम पर सपा की सरकार बनी है लेकिन अब सरकार हीलाहवाली कर रही है।
विज्ञापन

श्री पाल ने गुरुवार को कहा कि सरकार बनने के बाद से एक बार भी ऐसा नहीं लगा है कि मुख्यमंत्री टीईटी अभ्यर्थियों के प्रति गंभीर हैं। यहां तक की अभ्यर्थियों ने लखनऊ में प्रदर्शन किया तो उन्हें लाठियां खानी पड़ी। उन्होंने कहा कि सनद रहे कि चुनाव पूर्व सपा ने अपने घोषणा पत्र में महाविद्यालयों में छात्र संघों की बहाली, युवाओं को नौकरी और टीईटी अभ्यर्थियों को रोजी रोटी से जोड़ने की बात कही थी। खास बात यह है कि बसपा के शासनकाल में यह योजना चली लेकिन इसे पूरा कर अवसर सपा को मिल रहा है लेकिन इसके बाद भी तमाम दावों और आश्वासनों के बाद भी अब तक इसमें बात आगे नहीं बढ़ सकी है। श्री पाल ने अभ्यर्थियों पर लाठी चार्ज कराए जाने का गलत संदेश गया है और इससे लगता है कि सरकार अपनी बात पर कायम नहीं है। उन्होंने कहा कि टीईटी अभ्यर्थियों के लिए संघर्ष में बीएड बेरोजगार संघ भी शामिल है। और यदि शीघ्र ही नियुक्तियों का दौर शुरू नहीं हुआ तो संयुक्त आंदोलन छेड़ा जाएगा।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us