संपर्क मार्गों पर ब्रेकर न होने से दुर्घटनाएं बढ़ीं

Bhadohi Updated Mon, 18 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ज्ञानपुर। जीटी रोड को तोड़कर एनएच-2 का निर्माण तो कर दिया गया, लेकिन एनएच से जुड़ने वाले संपर्क मार्गों पर हाइवे पर पहुंचने से ऐन पहले ब्रेकर की जरूरत नहीं समझी गई। ब्रेकर नहीं बनाए जाने की वजह से सड़क दुर्घटनाओं में इजाफा हुआ है। ब्रेकर न होने से तिराहों, चौराहों पर हो रहीं सड़क दुर्घटनाओं में लोगों को जान गंवानी पड़ रही है।
विज्ञापन

हाल यह है कि नेशनल हाइवे (जीटी रोड) पर इन स्थानों पर हुई सड़क दुर्घटनाओं में दर्जनभर से अधिक दर्दनाक मौतें भी हो चुकी हैं। लेकिन, इसके बावजूद भी न तो संबंधित विभाग का ध्यान इस ओर जा रहा है और न ही जिला प्रशासन के लोगों का। इससे इन स्थानों पर जानलेवा हादसे होने की आशंका बनी रहती है। एनएच-2 मार्ग निर्माण से पूर्व जीटी रोड पर से संबद्ध क्षेत्रीय संपर्क मार्गों के तिराहों से लेकर चौराहों तक हर जगह सुरक्षा की दृष्टि से ब्रेकर बनाए गए थे। एनएच-2 का निर्माण होने पर उसमें कहीं भी ब्रेकर बनाने का प्रावधान नहीं किया गया। यहां तक कि विभिन्न संपर्क मार्गो को एनएचएआई द्वारा लगभग पचास से सौ मीटर तक रिपेयरिंग कर हाईवे जैसा लुक दिया गया, लेकिन वहां ब्रेकर नहीं लगाए गए। ऐसे में क्षेत्रीय मार्गों से हाइवे पर जाने वाले वाहन ब्रेक न लेकर सीधे हाइवे पर पहुंच जाते हैं। इस दौरान वे हाइवे पर तेज रफ्तार वाहनों की चपेट में आ जाते हैं। इससे दुर्घटनाएं बढ़ गई हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us