ग्रामीणों को रुला रही है बिजली कटौती

Bhadohi Updated Fri, 15 Jun 2012 12:00 PM IST
कौलापुर/ऊंज। डीघ विकास खंड के दर्जनों ग्रामसभाओं के ग्रामीणों को विद्युत कटौती खून के आंसू रुला दे रही है। मृगशिरा नक्षत्र में पड़ रही भीषण गर्मी और उमस की वजह से लोगों की हालत काफी खस्ताहाल हो जा रही है। परेशानी का आलम यह है कि ग्रामीणों को बिजली न मिलने की वजह से उनके जरूरी काम ठप पड़े हुए हैं। इसके अलावा विद्युत कटौती की वजह से हो रही शारीरिक से लेकर मानसिक कष्ट तो ऊपर से झेलना पड़ रहा है। गांवों में शासन की ओर से जारी विद्युत आपूर्ति के रोस्टर का कहीं अता-पता ही नहीं है। इससे ग्रामीण रात को न चैन से सो पाते हैं और बिजली न रहने की वजह से पेयजल के लिए भी काफी किल्लत उठानी पड़ती है।
ग्रामीणों के अनुसार ग्रामीण क्षेत्र में शासन की ओर से 12 से 14 घंटे तक विद्युत आपूर्ति करने के लिए रोस्टर निर्धारित किया गया है। लेकिन आपूर्ति के लिए रोस्टर का अता-पता नहीं रहता है, आपूर्ति होती भी है तो कई हिस्सों में महज पांच-छह घंटे तक। जिससे ग्रामीणों को उक्त समय तक विद्युत आपूर्ति का कोई फायदा नहीं मिल पाता है। बिजली कब आती है और कब चली जाती है इसका किसी ग्रामीण को पता नहीं चल पाता है। बिजली की कटौती होने की वजह से तिलंगा पेयजल से आपूर्ति ठप पड़ी हुई है। इससे ग्रामीणों को पानी के लिए काफी फजीहत उठानी पड़ रही है। वर्तमान में डीघ विकास खंड के सुजापुर, धनापुर, कौलापुर, केदारपुर, बेरासपुर, बदरी, गोपालपुर, दानी पट्टी सहित कुरमैचा, बसही, वहिदानगर, महुआरी, गोधना, ऊंज, खेदौपुर, रइयापुर, सुबाषनगर, रोही, बरईपुर, मझगंवा सहित अन्य ग्रामसभा के ग्रामीण विद्युत कटौती से त्रस्त हो गए हैं। ग्रामीणों ने जिला प्रशासन से तत्काल विद्युत आपूर्ति रोस्टर के अनुरूप ग्रामीण क्षेत्रों में कराने की मांग की है।

Spotlight

Related Videos

VIDEO: व्यापारी पर दिनदहाड़े हमला, बदमाशों ने की ताबड़तोड़ फायरिंग

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ आए दिन प्रदेश में सुरक्षा व्यवस्था  पहले से बेहतर होने का दावा करते हैं, लेकिन प्रदेश में हो रही घटनाएं दूसरी तरफ ही इशारा करती है।

22 जुलाई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen