ग्रामीण इलाकों में पेयजल किल्लत

Bhadohi Updated Tue, 05 Jun 2012 12:00 PM IST
ज्ञानपुर। ग्रामीण इलाकों में पेयजल किल्लत गहरा गई है। भीषण गर्मी में पानी की कमी ने ग्रामीणों को इस कदर परेशान कर रखा है कि पानी की एक-एक बूंद सहेजने की होड़ मच गई है। ज्यादातर हैंडपंप खराब होने और कुएं सूख जाने के कारण ग्रामीणों को पानी दूर से ढोकर लाना पड़ रहा है। एक-दो हैंडपंप जो चल भी रहे हैं तो उन पर पानी के लिए होड़ मची है। इस दौरान तू-तू-मैं-मैं बड़ी आम बात हो गई है।
जिले के ग्रामीण इलाकों में पानी के लिए जद्दोजहद शुरू है। तमाम हैंडपंपों ने पानी उगलना बंद कर दिया है और कुएं सूख गए हैं। तालाबों की तलहटी में भी दरारें पड़ गईं हैं। इससे पशुपालकों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। जिला मुख्यालय से महज दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित भिदिउरा गांव में पानी की किल्लत लोगों के लिए सिरदर्द बन गई है। गांव में लगे कई हैंडपंप महीनों से खराब हैं। ग्रामीण हैंडपंपों के रिबोर की मांग कर रहे हैं, लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है। अब गर्मी में हलक तर कर पाना भी काफी कठिन काम हो चला है। गांव के डबलू पाठक, हरिशंकर मौर्य, अवध नारायण सरोज, बब्बू मौर्य, धीरज पाठक, बबलू मौर्य, करिया मौर्य, विनय पाठक, आशीष शर्मा, बलंतू शर्मा, मुकेश मौर्य आदि ने खराब हैंडपंपों की शीघ्र मरम्मत करवाने की मांग की है। ग्रामीणों का कहना था कि गर्मी के सीजन में हैंडपंप ही ठीक हालत में नहीं रहेंगे तो पानी की समस्या कैसे दूर होगी। यह हाल आसपास के कई गांवों का है। कुएं पानी के अभाव में सूख गए हैं।

Spotlight

Related Videos

EXCLUSIVE :कुलदीप नैयर ने बताया, इमरजेंसी लगाने के पीछे संजय गांधी का था ये खतरनाक इरादा

कुलदीप नैयर अपनी कलम की ताकत से सत्ता में बैठे लोगों की आँखों की किरकिरी बने रहे। इंदिरा गांधी ने आपातकाल लगाया तो इन्हें जेल में डाल दिया। अमर उजाला टीवी ने कुलदीप नैयर से आपातकाल के साथ-साथ कई मुद्दों पर बातचीत की।

25 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen