विज्ञापन

उत्तर प्रदेश में लागू किया जाए वनाधिकार कानून

Bhadohi Updated Wed, 30 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ज्ञानपुर। राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन की श्री बाबा हरिहरनाथ मंदिर पर हुई बैठक में वनाधिकार कानून सहित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई। साथ ही मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन सपा जिलाध्यक्ष प्रदीप यादव को सौंपा गया। वक्ताओं ने कहा कि उत्तर प्रदेश को छोड़कर हर प्रदेश में वनाधिकार कानून को अमल में लाया गया है। उत्तर प्रदेश में भी इस कानून को लागू किया जाए, ताकि आदि काल से वनों में जीवनयापन कर रहे वनवासियों और आदिवासियों को उनका अधिकार मिल सके।
विज्ञापन
राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन के प्रदेश अध्यक्ष मनोज कुमार सिंह ने कहा कि आदिवासी हमेशा से उपेक्षित रहे हैं। अगर कांग्रेस सरकार ने जो वनाधिकार कानून 2006 पारित किया है, उसे उत्तर प्रदेश में लागू कर दिया जाए तो आदिवासियों की समस्याएं काफी हद तक खत्म हो जाएंगी। इस कानून को देश के अधिकांश प्रांतों ने अपने यहां लागू कर दिया है। इस कानून के लागू होने से आदिवासियों और वनवासियों को वनों में रहने का अधिकार मिल जाएगा। वृक्ष हमारे लिए प्राकृतिक उपहार और देवतातुल्य हैं। तुलसी, नीम, पीपल यह सब औषधीय गुण वाले पेड़ पौधे हैं। इनकी सुरक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है। जिले का वन विभाग सुचारु रूप से कार्य नहीं कर रहा है। जिले में मात्र दो प्रतिशत ही पेड़ हैं। वह भी लगातार काटे जा रहे हैं। नए वृक्ष नहीं लगाए जा रहे हैं। जिला प्रशासन से आग्रह किया गया कि जिला पंचायत, ब्लाक प्रमुख और प्रधानों के माध्यम से पेड़ों को लगवाया जाए। संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष रामचंद्र उर्फ मुन्ना पांडेय ने कहा कि मुस्लिम महिलाओं को उत्तर प्रदेश में पैत्रिक संपत्ति में अधिकार मिलने से संबंधित कानून नहीं लागू किया गया है। जबकि मध्य प्रदेश, राजस्थान, बिहार में यह कानून लागू है। यूपी में भी इस कानून को लागू किया जाए। प्रदेश अध्यक्ष ने मुस्लिम महिलाओं को पैत्रिक संपत्ति में हक और वनाधिकार कानून को यूपी में लागू करने के लिए मुख्यमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन सपा जिलाध्यक्ष प्रदीप यादव को सौंपा। जिलाध्यक्ष ने ज्ञापन को मुख्यमंत्री तक भिजवाने का आश्वासन दिया। संगठन के प्रवक्ता विमल कुमार पांडेय ने कहा कि अभोली विकास खंड के गोकुलपट्टी गांव में ट्यूबवेल की नाली को लेकर सपा जिलाध्यक्ष और गांव के कुछ लोगों के बीच चल रहे विवाद के संबंध में बैठक में चर्चा हुई और दोनों पक्षों की बात सुनकर मामले में सुलह समझौत करा दिया गया। इससे दोनों पक्ष संतुष्ट रहे। बैठक में सपा के जिला महासचिव कुंवर प्रमोद चंद्र मौर्य, प्रवक्ता बंशीधर गुप्ता के अलावा महेंद्र शुक्ल, नंदलाल शुक्ल, राजेश तिवारी, रविंद्र मिश्र, मुहम्मद शोयब, शेरू पांडेय, सीमा गुप्ता, सपना कौशल, राजेश विश्वकर्मा, नागेंद्र प्रसाद दूबे, बनारसी मिश्र, धनेश पंडा, भरत पाठक आदि थे। बैठक का संचालन प्रदेश सलाहकार तूफानी तिवारी ने किया।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

राजस्थान चुनावः बूंदी की हिंडोली विधानसभा का है सत्ता से कनेक्शन

बूंदी जिले के अंतर्गत तीन विधानसभा सीटें आती हैं-हिंडोली, केशोरायपाटन और बूंदी। इनमें दो पर भाजपा और एक पर कांग्रेस का विधायक मौजूद है।

18 नवंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree