सात महीने में 6500 से दो लाख हो गया बिजली बिल

Bhadohi Updated Mon, 28 May 2012 12:00 PM IST
भदोही। विद्युत विभाग के बिजली बिल बकाए में हर माह लाखो रुपये जुड़ रहे हैं लेकिन इसके बाद भी इस पर गौर नहीं किया जा रहा है कि आखिर बकाए का प्रमुख कारण क्या है? एक ताजे मामले पर नजर डालने पर यह बात स्पष्ट रूप से कही जा सकती है कि बकाए के लिए अकेले उपभोक्ता ही नहीं बल्कि विभागीय व्यवस्था भी बराबर की जिम्मेदार है।
नगर के छेड़ीबीर निवासी विश्वनाथ पुत्र साधू के नाम जो कनेक्शन है उसके बिल संख्या 9207756 , 27 अक्तूबर 2011 में बकाया विद्युत मूल्य 4874.05 रुपये में बकाया अधिभार 1143.63 रुपये जोड़ कर कुल देय रुपये 6576 का बिल भेजा गया था। लेकिन इसके सात माह के बाद जो बिल विश्वनाथ को भेजा जाता है वह 1.99 लाख का हो जाता है। विश्वनाथ ने बताया कि गत 21 मई को उसने विभाग में जाकर बिल न मिलने की शिकायत की। इस पर उसे इंटरनेट से डाऊनलोड कर उसका डुप्लीकेट बिल संख्या 201205006806, 19.05.2012 थमा दिया जाता है। बिल में अंकित धनराशि 1991628.00 रुपए देख कर विश्वनाथ को पसीने छूटने लगे। और जब उसने कहा कि इतना बिल कैसे संभव हो सकता है तो जवाब मिला मैं नहीं जानता इसका जवाब जाकर ऊपर के अधिकारियों से पूछो। मरता क्या न करता विश्वनाथ चुपचाप बिल लेकर घर आ गया।
अब सवाल यह उठता है कि केवल 7 महीने में विश्वनाथ ने कौन सा उपकरण चला लिया कि बिल साढ़े 6 हजार से दो लाख रुपये हो गया? विश्वनाथ ने बताया कि एसी-कूलर की वह सोच नहीं सकता। केवल बत्ती पंखा से इतना भारी भरकम बिल कहां से आएगा। भाजपा सभासद विनोद सोनकर ने कहा कि विभागीय अधिकारी पूरा ध्यान केवल वसूली और आरसी काटने में लगा रहे हैं। वे कभी मूल समस्या की तह में नहीं गए। यदि गलत बिलिंग को दूर कर दिया जाए तो शायद वसूली की समस्या भी दूर हो जाए।

Spotlight

Related Videos

दावोस में 'क्रिस्टल अवॉर्ड' मिलने के बाद सुपरस्टार शाहरुख खान ने रखी 'तीन तलाक' पर अपनी राय

दावोस में 'विश्व आर्थिक मंच' सम्मेलन में बच्चों और एसिड अटैक सर्वाइवर्स के लिए काम करने के लिए क्रिस्टल अवॉर्ड से नवाजे गए बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान..

24 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls