विज्ञापन

सात महीने में 6500 से दो लाख हो गया बिजली बिल

Bhadohi Updated Mon, 28 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
भदोही। विद्युत विभाग के बिजली बिल बकाए में हर माह लाखो रुपये जुड़ रहे हैं लेकिन इसके बाद भी इस पर गौर नहीं किया जा रहा है कि आखिर बकाए का प्रमुख कारण क्या है? एक ताजे मामले पर नजर डालने पर यह बात स्पष्ट रूप से कही जा सकती है कि बकाए के लिए अकेले उपभोक्ता ही नहीं बल्कि विभागीय व्यवस्था भी बराबर की जिम्मेदार है।
विज्ञापन
नगर के छेड़ीबीर निवासी विश्वनाथ पुत्र साधू के नाम जो कनेक्शन है उसके बिल संख्या 9207756 , 27 अक्तूबर 2011 में बकाया विद्युत मूल्य 4874.05 रुपये में बकाया अधिभार 1143.63 रुपये जोड़ कर कुल देय रुपये 6576 का बिल भेजा गया था। लेकिन इसके सात माह के बाद जो बिल विश्वनाथ को भेजा जाता है वह 1.99 लाख का हो जाता है। विश्वनाथ ने बताया कि गत 21 मई को उसने विभाग में जाकर बिल न मिलने की शिकायत की। इस पर उसे इंटरनेट से डाऊनलोड कर उसका डुप्लीकेट बिल संख्या 201205006806, 19.05.2012 थमा दिया जाता है। बिल में अंकित धनराशि 1991628.00 रुपए देख कर विश्वनाथ को पसीने छूटने लगे। और जब उसने कहा कि इतना बिल कैसे संभव हो सकता है तो जवाब मिला मैं नहीं जानता इसका जवाब जाकर ऊपर के अधिकारियों से पूछो। मरता क्या न करता विश्वनाथ चुपचाप बिल लेकर घर आ गया।
अब सवाल यह उठता है कि केवल 7 महीने में विश्वनाथ ने कौन सा उपकरण चला लिया कि बिल साढ़े 6 हजार से दो लाख रुपये हो गया? विश्वनाथ ने बताया कि एसी-कूलर की वह सोच नहीं सकता। केवल बत्ती पंखा से इतना भारी भरकम बिल कहां से आएगा। भाजपा सभासद विनोद सोनकर ने कहा कि विभागीय अधिकारी पूरा ध्यान केवल वसूली और आरसी काटने में लगा रहे हैं। वे कभी मूल समस्या की तह में नहीं गए। यदि गलत बिलिंग को दूर कर दिया जाए तो शायद वसूली की समस्या भी दूर हो जाए।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

मसूड़ों से खून आना, मुंह की दुर्गंध का ऐसे कराएं इलाज

दांतों के चारों तरफ जमी हुई सख्त गंदगी, प्लाक और बैक्टीरियल इन्फेक्शन को अल्ट्रासोनिक स्केलर की मदद से हटा दिया जाता है।

19 सितंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree