भाजपाइयों ने फूंका मनमोहन और सोनिया का पुतला

Bhadohi Updated Sat, 26 May 2012 12:00 PM IST
खमरिया। पेट्रोल के मूल्य में बेतहाशा बढ़ोतरी के विरोध में भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह व यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी का पुतला दहन किया। प्रदर्शनकारियों ने चेतावनी दी कि यदि बढ़े हुए दाम तत्काल वापस नहीं लिए गए तो भाजपा सड़क से लेकर संसद तक विरोध करेगी। आने वाले चुनाव में कांग्रेस को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।
पेट्रोल के मूल्य में हुई ऐतिहासिक बढ़ोतरी से भाजपा कार्यकर्ताओं का आक्रोश फूट पड़ा। भाजपा नगर अध्यक्ष संदीप मौर्य के नेतृत्व में भाजपाइयों ने भारी विरोध प्रकट किया। नगर के खलवापुर चौराहे पर टेंपो स्टैंड के पास प्रधामंत्री डा. मनमोहन सिंह व यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी का पुतला दहन किया। चेतावनी दी कि यदि बढ़ोतरी तत्काल वापस नहीं ली गई तो भाजपा कार्यकर्ता सड़क से लेकर संसद तक आंदोलन करेंगे।
कहा कि यूपीए सरकार का आम जनता की परेशानियों से कुछ लेना देना नहीं रह गया है। केंद्र की सरकार भ्रष्टाचार में आकंठ डूब चुकी है। प्रधानमंत्री कोई भी फैसला लेने में असमर्थ हैं। उनके मंत्री कह रहे हैं कि यह उनके बस की बात नहीं है। ऐसे में इस गैर जिम्मेदार सरकार को एक पल भी सत्ता में बने रहने का अधिकार नहीं है। नगर अध्यक्ष संदीप मौर्य ने कहा कि कांग्रेस सरकार में भ्रष्ट नेता व मंत्रियों का बोलबाला है। जिसके चलते जनता खून के आंसू रोने के लिए बाध्य हो गई है।
देश की जनता महंगाई और भ्रष्टाचार से जूझ रही है और सरकार जिम्मेदारी लेने से पल्ला झाड़ रही है। इस मौके पर जयलाल मौर्य, उमेश मौर्य, कमलेश, अखिलेश, मिथिलेश, रामू मौर्य, नन्हकू मौर्य, हनुमान मौर्य, सत्य प्रकाश मौर्य आदि मौजूद रहे। इसी तरह भाजपा औराई पूर्वी मंडल अध्यक्ष रमाकांत त्रिपाठी के नेतृत्व में भाजपाइयों ने पेट्रोल के दाम में बढ़ोतरी के विरोध में प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह और वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी का पुतला दहन किया।
इस मौके पर डा. सूर्य प्रकाश चौबे, दिलीप कन्नौजिया, प्रकाश मिश्र, अमित पांडेय, डब्बू सिंह, श्रीधर दलित, अरुण दूबे, सरोज पांडेय, उमाशंकर जायसवाल आदि मौजूद रहे।

Spotlight

Related Videos

अविश्वास प्रस्ताव से बीजेपी को कितना खतरा? समझिए, आंकड़ों के जरिए

जब सत्ता, सियासत और साम्राज्य के मायने सिकुड़कर चंद मुद्दों में सिमट जाएं तो समझ जाइए देश में चुनाव होने वाले हैं और चुनावों से पहले थोड़ा ड्रामा होना लाजमी होता है।

19 जुलाई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen