विज्ञापन

गंगा को किया जाए बांधों से मुक्त

Bhadohi Updated Tue, 22 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ज्ञानपुर। भदोही लोकसभा के सांसद गोरखनाथ पांडेय ने लोकसभा में गंगा नदी और हिमालय के संरक्षण पर्यावरण की सुरक्षा के लिए सदन में आवाज उठाई। कहा कि देश की अस्मिता को बचाने के लिए हमारी आस्था की प्रतीक गंगा नदी की अविरल धारा को प्रवाहित रहने तथा प्रदूषण से बचाने के लिए गंगा को बांधों से मुक्त करें। वाराणसी तथा देश के अन्य भागों में हो रहे आंदोलन के दर्द को समझें। गंगा नदी तथा हिमालय पर्वत की सुरक्षा, संरक्षा के लिए ठोस कार्रवाई करें।
विज्ञापन
गोरखनाथ पांडेय ने नियम 193 के तहत चल रही चर्चा के दौरान गंगा नदी के सुरक्षा का मुद्दा उठाया। कहा कि गंगा नदी ही नहीं हमारी मां हैं। यह जाति, संप्रदाय, धर्म और समुदाय के ऊपर उठकर आदरणीय हैं। गंगा मानव जाति के एकता के सूत्र में पिरोती आई हैं। यह हमारी आस्था की प्रतीक हैं और इन्हें राष्ट्रीय नदी घोषित किया गया है। आज इनकी अविरल धारा प्रभावित हो रही है और प्रदूषित हो रही है। कहा कि गंगा नदी से हमारा संबंध जन्म लेते ही शुरू हो जाता है और मृत्यु तक चलता रहता है। हमारे देश की पवित्र नदी ही नहीं यह जीवनधारा हैं। गंगा देश के छह प्रांतों से 2525 किलोमीटर तक चलकर 40 प्रतिशत लोगों के जीवन से संबंध रखती हैं। वेदों में कहा गया है गंगा तव दर्शनात मुक्ति:। कहा कि गंगा प्रदूषित हो गई हैं। 29 शहरों से होकर बहती है। फैक्ट्री का गंदा पानी गंगा नदी में उड़ेला जा रहा है। हम गंगा एक्शन प्लान के तहत करोड़ों रुपये सफाई पर खर्च कर रहे हैं, लेकिन यह सफेद हाथी साबित हो रहा है। गंगा की अविरल धारा रोकी जा रही है। इन्हें सुरंगों से निकाला जा रहा है। प्रारंभ में ही उद्गम स्थल के बाद कई बांधों का निर्माण किया गया है। इको जोन में भी बांध बनाए जा रहे हैं। देश की सभ्यता संस्कृति की धरोहर गंगा मां को कहा ले जाना चाहते हैं। सांसद ने कहा कि आस्था की प्रतीक गंगा मैली ही नहीं उनका लोप होने जा रहा है। इससे हमारी संस्कृति समाप्त हो जाएगी। गंगा की पवित्रता एवं अविरल धारा के लिए आंदोलन हो रहा है धरना प्रदर्शन हो रहा है। भदोही क्षेत्र पवित्र नगरी काशी व तीर्थराज प्रयाग के मध्य में स्थित है। हमारा गांव गंगा नदी के तट पर बसा है। हमने 40 वर्ष पूर्व की गंगा नदी को देखा है और आज गंगा नदी की दुर्दशा को भी देख रहे हैं। उन्होंने सभापति के माध्यम से देश की अस्मिता को बचाने के लिए आस्था की प्रतीक गंगा नदी के अविरल धारा के प्रवाहित रहने तथा प्रदूषण से बचाने के लिए गंगा को बांधों से मुक्त किया जाए। इस विषय को करेंट लिस्ट में डालकर हस्तक्षेप करें। वाराणसी सहित अन्य स्थानों पर हो रहे आंदोलन के दर्द को समझें। केवल सदन में जवाब देकर इतिश्री न करें। यदि सरकार कार्रवाई नहीं करती तो देश में आंदोलन होगा। गंगा हमारी मां है मां की रक्षा करना हमारा धर्म ही नहीं कर्तव्य भी है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

बेटी के नाम पर बचत योजना में मिलेगा अब और ज्यादा ब्याज, देखिए कई और खुशखबर

पीएम मोदी की महत्वाकांक्षी योजना प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की तो शुरुआत जल्द होने ही वाली है साथ ही छोटी बचत योजनाओं में निवेश करने वाले लोगों के लिए खुशखबरी है।

21 सितंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree