लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   ›   चकमीरा शाह के मजार पर लगा रहा अकीदतमंदों का तांता

चकमीरा शाह के मजार पर लगा रहा अकीदतमंदों का तांता

Bhadohi Updated Thu, 17 May 2012 12:00 PM IST
भदोही। हजरत मीरा शाह रहमतुल्लाह अलैह का सालाना उर्स मंगलवार की शाम अकीदत से मनाया गया। मजार पर दिन में जहां दूर से आए अकीदतमंदों की भीड़ रही तो शाम को स्थानीय लोगों ने भी मजार की जियारत कर चादरपोशी की। सुबह कुरआन ख्वानी के साथ उर्स का आगाज हुआ और शाम को स्थानीय लोगों ने कव्वाली का लुत्फ उठाया। गागर में भारी संख्या में लोग शामिल हुए।

शहरी और आस पास के ग्रामीण क्षेत्रों में चकमीरा शाह बाबा का व्यापक नाम है। हर जुमेरात को तो लोग फातिहा पढ़ने आते ही हैं उर्स में हजारों लोग बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेते हैं। इसमें मुकामी लोगों का खास योगदान होता है। सुबह कुरआन ख्वानी के बाद से ही जायरीनों का आना शुरू हो गया था। दिन भर फातिहा पढ़ने, चादर चढ़ाने के सिलसिला चलता रहा। शाम को मजार से गागर उठा जो कई मार्गों पर घूमने के बाद मजार पर पहुंचा। इसके बाद अकीदतमंद लोगों ने मजार का गुस्ल कराया और चादरपोशी की। मजार के लिए चादर मुंबई से मंगाया गया था। मजार पर मन्नते मांगने वालों में भारी संख्या हिंदू भी थे।

महफिले शमा कार्यक्रम देर रात तक चला जिसमें स्थानीय लोगों की संख्या अधिक रही। कमेटी द्वारा जायरीनों की सुविधा के लिए खान-पान सहित पेयजल का समुचित इंतजाम किया गया था। गुलाम साबिर, गुड्डू शाह, अख्तर राईन, शमशेर राईन, एखलाक राईन, वकील अहमद, बशीर खां जायरीनों की सेवा में लगे रहे।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00