आढ़तियों का सरकारी रेट पर गेहूं खरीदने से इंकार

Badaun Updated Mon, 05 May 2014 05:31 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

उझानी (बदायूं)। आढ़त पर भी सरकारी रेट पर ही गेहूं खरीदे जाने की सख्ती रविवार को प्रशासन पर भारी पड़ गई। आढ़तियों ने यह कहकर हड़ताल कर दी कि सरकार को किसानों की चिंता है तो गेहूं खरीद केंद्रों पर संसाधन मुहैया कराके गेहूं की खरीद करा ले। हड़ताल की वजह से परेशान किसानों ने मंडी सचिव को घेर लिया। सचिव ने आढ़तियों से वार्ता भी की लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला।
विज्ञापन

रविवार को जब मंडी समिति परिसर में गल्ला व्यापार शुरू हुआ तो मंडी सचिव प्रताप सिंह गंगवार ने अफसरों के आदेशों का हवाला देकर गेहूं खरीद सरकारी रेट 14 सौ रुपया प्रति क्विंटल पर ही करने फरमान जारी कर दिया। इससे नाराज आढ़तियों ने परिसर में ही बैठक कर खरीद सरकारी रेट पर नहीं करने का निर्णय लेते हुए हड़ताल का ऐलान कर दिया। दोपहर तक जो किसान ट्रेक्टर-ट्रॉलियों में गेहूं लेकर पहुंचे उन्हें बैरंग लौटना पड़ा। किसानों और आढ़तियों के बीच बातचीत भी हुई।
कुछ किसान मंडी परिसर में ही लगे आरएफसी के सेंटर भी पहुंचे लेकिन सेंटर बंद होने की वजह से उनका गुस्सा फूट पड़ा। गुस्साए किसानों में भूराम सिंह, देशराज यादव, किशनपाल, अजीत सिंह, अमरसिंह, भागीरथ और होराम सिंह आदि ने मंडी कार्यालय में सचिव का घेराव कर लिया। किसानों ने उनके सामने अपनी दास्तां भी बयां की लेकिन सचिव ने अफसरों से बात करने की कहकर हाथ खड़े कर दिए। बताया कि अफसर चाहते हैं कि किसानों को उसकी उपज के पूरे दाम मिलें। मंडी में हड़ताल और सेंटर बंद होने पर कुछेक किसानों को फुटकर में कम दाम पर गेहूं बेचना पड़ा।
इस बार मंडी में सिर्फ एक खरीद केंद्र
उझानी। मंडी समिति परिसर में गेहूं खरीद के दिनों में हर साल दो-तीन सेंटर लगा करते थे। इसके अलावा भी सरकारी संस्थाएं अन्य स्थानों पर खरीद किया करती थीं लेकिन इस बार प्रशासन ने महज एक ही सेंटर खोला है। जबकि मंडी में प्रतिदिन करीब चार हजार क्विंटल तक गेहूं की आवक है।

आढ़ती गेहूं खरीद तो करते रहेंगे लेकिन सचिव ने सरकारी रेट पर खरीद का जो फरमान जारी किया है, उसे कैसे बर्दाश्त किया जाए। अगर सचिव यही चाहते हैं तो सेंटर पर अपनी मौजूदगी में गल्ला की तौल शुरू करा दें।-सुरेंद्र गुप्ता, अध्यक्ष, ग्रेन मर्चेंट एसोसिएशन।

सेंटर पर गेहूं की तौल करा रहे हैं लेकिन लेबर और बारदाने के हिसाब से ही तौल की जा सकती है। रविवार को अवकाश था, सोमवार से सेंटर पर किसानों का गेहूं खरीदा जाएगा। फिलहाल मंडी में आवक अधिक है।- कांति राठौर, प्रभारी, आरएफसी सेंटर।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us