पहली राष्ट्रीय लोक अदालत में जुटी खासी भीड़

Badaun Updated Sun, 24 Nov 2013 05:46 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

बदायूं। जिला जज पीके चतुर्वेदी की अध्यक्षता में शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत और वृहद लोक अदालत का आयोजन किया गया। इस दौरान जिले की विभिन्न बैंक के लोन से संबंधित खातेदारों के मुकदमे सहित तमाम अदालतों में विचाराधीन मुकदमों को आपसी सुलह, समझौते से नि:शुल्क निपटाया गया।
विज्ञापन

सुप्रीम कोर्ट की हिदायत पर जिले की समस्त बैंक से वितरित ऋण, नान पेमेंट में बंद हुए खातों सहित तहसील को प्रेषित आरसी के माध्यम से वसूली वाले खातेदारों के मामलों को प्राथमिकता के आधार पर नि:शुल्क निस्तारित किया गया। इसके अलावा जिले की राजस्व, चकबंदी, फोरम, स्टांप, मजिस्ट्रेट, सेशन सिविल और मोटर ट्रिब्यूनल विशेष अदालतों में विचाराधीन तमाम मुकदमों में पक्षकारों के मध्य सुलह, समझौता तथा संधि वार्ता कराकर मुकदमों का निस्तारण हुआ। जबकि चालानी वाद, उत्तराधिकार, लघु प्रकृति के फौजदारी मामले, दीवानी, रेवेन्यू, क्रिमिनल, मोटर क्लेम केसों को भी खूब निस्तारण हुआ।
ऐसे आयोजनों से होता है वादकारियों को लाभ
जिला जज, प्राधिकरण अध्यक्ष पीके चतुर्वेदी ने शनिवार को आयोजित राष्ट्रीय एवं वृहद लोक अदालतों की कामयाबी पर हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि ऐसे आयोजनों से वादकारी तो लाभांवित होते ही हैं, साथ ही पैंडेंसी भी घटती है।

प्राधिकरण के प्रति है अटूट विश्वास
राष्ट्रीय एवं वृहद लोक अदालत की समाप्ति पर प्राधिकरण सचिव सिविल जज पुनीत कुमार ने कहा राष्ट्रीय लोक अदालत निसंदेह विधिक प्राधिकरण तथा वैकर्स के सौजन्य से संपन्न हुई है। लेकिन इसके सफल होने में जिले के वादकारियों का प्राधिकरण के प्रति अटूट विश्वास है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us