विज्ञापन
विज्ञापन

अवैध मंडियों पर गन्ने की खरीद रोकने के आदेश

Badaun Updated Tue, 29 Jan 2013 05:30 AM IST
बदायूं। गन्ना किसानों को उनकी उपज का वाजिब मूल्य दिलाने के लिए शासन रेट घोषित करता है और खरीद की व्यवस्था कराता है। इसके बावजूद जिले में अवैध मंडियों पर गन्ना खरीदा जा रहा है। ऐसे गन्ना माफिया के खिलाफ अधिकारी कार्रवाई नहीं कर पा रहे हैं। कोर्ट के आदेश के बाद विभाग अब इन पर कड़ी कार्रवाई करने का दावा कर रहा है।
विज्ञापन
शासन ने साफ कहा है कि किसी भी गन्ना किसान का शोषण न होने दिया जाए। यदि कहीं पर घटतौली होती है या फिर गन्ना माफिया खरीददारी करते हैं तो प्रशासन की जिम्मेदारी होगी। इन आदेशों के बावजूद जिले से गन्ना बाहर जा रहा है। कई जगह गन्ना माफिया हावी हैं और अवैध तरीके से चल रहीं मंडियों पर गन्ना खरीदा जा रहा है। हालांकि शिकायतों पर शुरू में कुछ माफियाओं पर कार्रवाई हुई लेकिन बाद में सब शांत बैठ गए। हालात यह हैं कि जिले में स्थित चीनी मिलों पर गन्ना नहीं पहुंच रहा।
इसी क्रम में बिसौली क्षेत्र में स्थित यदु शुगर मिल ने सिविल जज के यहां वाद दायर किया। आदेश दिया गया है कि अवैध मंडियों पर गन्ना खरीदने पर रोक लगे। इस बारे में पूछे जाने पर जिला गन्ना अधिकारी सुशील कुमार ने कहा कि कोर्ट का आदेश शाम को मिल गया है। विश्लेषण किया जा रहा है। कोर्ट के आदेश का पालन करते हुए गन्ना माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
सहकारी गन्ना समिति सचिव रामकिशन ने कहा है कि उन्हें भी आदेश मिल गया है। अवैध मंडियों पर गन्ना की खरीद को रोका जाएगा। कोर्ट के आदेश पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। गन्ना माफियाओं को किसी हाल में बख्शा नहीं जाएगा। उन्हें पकड़ने के लिए टीमें लग गईं हैं। उनके खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई जाएगी और गन्ना भी जब्त कर लिया जाएगा। गन्ना किसानों का उत्पीड़न नहीं होने देंगे। जिले से बाहर गन्ना नहीं जाने दिया जाएगा।
विज्ञापन

Recommended

छात्रोंं के करियर को नई ऊंचाइयां देता ये खास प्रोग्राम
Invertis university

छात्रोंं के करियर को नई ऊंचाइयां देता ये खास प्रोग्राम

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

मदर टेरेसा को मिला था शांति के लिए नोबेल पुरस्कार, लेकिन कुछ लोगों ने दिया था नकार

17 अक्टूबर 1979 को मदर टेरेसा को शांति का नोबेल मिला था। नोबेल पुरस्कारों का इतिहास काफी रोचक रहा है। साथ ही विवादास्पद भी। ऐसा भी हुआ है जब विश्व का यह सर्वोच्च सम्मान लेने से लोगों ने मना कर दिया।

17 अक्टूबर 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree