विज्ञापन
विज्ञापन

शार्ट सर्किट से दो जगह आग से लाखों का नुकसान

Badaun Updated Fri, 25 Jan 2013 05:32 AM IST
उझानी। भारत संचार निगम लिमिटेड के स्थानीय टेलीफोन एक्सचेंज में शार्ट सर्किट से लगी आग ने जबर्दस्त नुकसान पहुंचाया। मशीन रूम में ले लगी आग पर काबू पाने के लिए अफसरों को दमकल का सहारा लेना पड़ा। हालांकि टीडीएम, डीई और एसडीओ ने भी आग बुझाने में मशक्कत की, लेकिन तब तक एक दर्जन से अधिक कार्ड फुंक चुके थे।
विज्ञापन
यह हादसा बुधवार रात करीब 10 बजे हुआ। तब बिजली आई ही थी। मशीन रूम के पास ही अचानक शार्ट सर्किट से धुंआ डठा। फिर देखते ही देखते आग ने केबिलों के जरिये मशीन रूम को चपेट में ले लिया। एसडीओ आरएस यादव की कॉल पर टीडीएम वीएम सिंह और मंडलीय इंजीनियर वीके कोहली भी आ गए। एसडीओ के साथ अफसर भी आग पर काबू पाने की कोशिश में जुट गए।
आग की सूचना पर दमकल भी बुला ली गई। दमकल के सहयोग से आग पर काबू पाने में करीब दो घंटा लगे। आग पर काबू पाने तक मशीन रूम से जुड़े करीब एक दर्जन कार्ड आग की भेंट चढ़ गए। हालांकि महकमा ने आग से ज्यादा नुकसान नहीं बताया है, लेकिन जानकारों की मानें तो मशीन रूम में एक-डेढ़ लाख रुपये का सामान स्वाहा हो गया है। इसे लेकर देर रात तक एक्सचेंज परिसर में अफरातफरी का माहौल रहा।
इंसेट
इंजीनियर मशीनों को ठीक करने में जुटे
टेलीफोन एक्सचेंज में बुधवार रात अचानक लगी आग के बाद क्षतिग्रस्त मशीनों को ठीक करने के लिए एसडीओ के साथ इंजीनियरों की टीम व्यवस्था दुरस्त करने में जुट गई है। कार्ड बदलने का काम बृहस्पतिवार को भी चला। इस बीच, संचार व्यवस्था को वैकल्पिक रूप से शुरू कर दिया गया है।
वर्जन
आग पर काबू समय रहते ही पा लिया गया था। अगर थोडी सी भी चूक हो जाती तो नुकसान बहुत होता। आग बिजली के शार्ट सर्किट से ही लगी थी। जांच में भी यही सामने आया है।-आरएस यादव, एसडीओ, टेलीफोन एक्सचेंज।
-----------------
सहारा इंडिया के दफ्तर में कंप्यूटर, प्रिंटर राख
रात में हादसा, सुबह दफ्तर खुला तो हुई जानकारी
करीब तीन लाख रुपये के नुकसान का अनुमान
फोटो-
बदायूं। फिक्स आरडी निवेश करने वाली पैराबैंकिंग कंपनी सहारा इंडिया के दूसरी मंजिल स्थित दफ्तर में आग लग गई। रात के वक्त शार्ट सर्किट से लगी आग से दफ्तर का काफी सामान जलकर खाक हो गया। सुबह दफ्तर खोलने पर अग्निकांड की जानकारी हुई। अधिकारी नुकसान का आंकलन करने में जुटे हैं।
शहर के कश्मीरी चौक पर किराए के भवन में दूसरी मंजिल पर सहारा इंडिया फाइनेंशियल कारपोरेशन लिमिटेड का दफ्तर है। यहां पैराबैंकिंग के तहत विभिन्न प्रकार की आरडी जमा योजनाएं संचालित की जाती हैं। प्रबंधक राम अभिलाष वर्मा के अलावा दफ्तर में कई कर्मचारी तैनात हैं। बुधवार को रोज की तरह यह लोग शाम छह बजे काम निपटाकर अपने घर चले गए। इस बीच आफिस की खिड़कियां और दरवाजे भी अच्छी तरह बंद कर दिए गए।
रात में किसी समय शार्ट सर्किट से दफ्तर के एक हिस्से में आग लग गई। आग से दो कम्प्यूटर, प्रिंटर, पंखे, काउंटर और कागजी रिकार्ड जलकर नष्ट हो गए। इसके साथ ही दफ्तर के दूसरे हिस्से में भी आग की लपटें पहुंची तो वहां भी आंशिक नुकसान हुआ। दफ्तर पूरी तरह बंद होने से वायुमंडल की आक्सीजन अंदर नहीं आ सकी और शायद इसी वजह से आग खुद-ब-खुद बुझ गई।
सुबह को भी रोज की तरह यहां आसपास दुकानें खुलीं तो किसी को अहसास नहीं हुआ कि इस दफ्तर में आग लगी है। सुबह करीब नौ बजे चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी सुमित ने आकर दफ्तर का ताला खोला तो अंदर का हाल देखकर वह चौंक गया। उसने कम्प्यूटर प्रभारी आरएस गुप्ता और प्रबंधक श्री वर्मा को इसकी जानकारी दी। फिर थोड़ी ही देर में पूरा स्टाफ मौके पर पहुंच गया। पूरे दिन स्टाफ नुकसान का आंकलन करता रहा।

- करीब दो से तीन लाख रुपये का नुकसान हुआ है। हमारा पूरा डाटा कंपनी मुख्यालय पर भी मौजूद रहता है। इसलिए नया कम्प्यूटर लगते ही डाटा उसमें फीड हो जाएगा। इस लिहाज से किसी कस्टमर के नुकसान का कोई चांस नहीं है। आग की वजह शार्ट सर्किट ही रही होगी। पुलिस को भी सूचना दे दी है।
- राम अभिलाष वर्मा, प्रबंधक
विज्ञापन

Recommended

आखिर भारतीयों को क्यो पसंद है रमी खेलना?
Junglee Rummy

आखिर भारतीयों को क्यो पसंद है रमी खेलना?

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

कमलेश तिवारी हत्याकांड में ATS को मिली कामयाबी, दोनों मुख्य आरोपी गिरफ्तार

कमलेश तिवारी हत्याकांड में फरार दोनों आरोपियों को गुजरात एटीएस ने गिरफ्तार कर लिया है. दोनों आरोपियों के नाम अश्फाक और मुईनुद्दीन है.

22 अक्टूबर 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree