बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

याद किए गए बाबा अंबेडकर

Badaun Updated Mon, 15 Oct 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

बदायूं। भारतीय बौद्ध महासभा के तत्वावधान में रविवार को भारत रत्न बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर का 57वां धम्म दीक्षा दिवस धूमधाम से मनाया गया। मुख्य अतिथि अखिलेश अजीज इलाहबादी ने कहा कि कबीर, गुरूनानक, तुकाराम और रविदास आदि संतों की वाणी डॉ. अंबेडकर ने बौद्ध धर्म ग्रहण करके पूरी की।
विज्ञापन

गांव पड़ौआ में हुए कार्यक्रम में मुख्य अतिथि ने लोगों को अंधविश्वास और कुरीतियों से दूर रहने को कहा। कहा कि बिना बौद्ध धर्म के क्रांतिकारी परिवर्तन देश में नहीं हो सकता। संस्कारों का पालन बौद्ध पद्धति से करने पर भारतीय संस्कृति की रक्षा होगी। क्योंकि भगवान बुद्ध का मार्ग श्रेष्ठ है। कार्यक्रम में आदमी के लोग में भगवान का क्या काम पुस्तक का विमोचन भी किया गया। साथ ही जानकी बौद्ध महामाया हॉल का शिलान्यास भंते अंगुलिमाल ने किया। इस मौके पर रामेश्वर दयाल शास्त्रत्त्ी, भिक्षु देवेंद्र, सत्यपाल बौद्ध, आशीष कुमार, डीपी सिंह, राजू, चंद्रसेन गौतम, मानसिंह गौतम और लालाराम गौतम आदि मौजूद रहे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us