बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

दक्ष ने किया महादेव का अपमान, सती ने दे दी जान

Badaun Updated Sun, 14 Oct 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

बदायूं। सृष्टि के निर्माता ब्रह्मा जी के बेटे राजा दक्ष ने शनिवार को अपने महल में यज्ञ किया। यज्ञ में बिना बुलाए पहुंचीं देवी सती को दक्ष ने अपमानित भी किया। अपना अपमान तो उन्होंने सह लिया लेकिन जब दक्ष ने महाकाल भगवान शंकर को अपशब्द कहे तो क्रोध में आकर सती ने यज्ञकुंड में कूदकर अपनी जान ही दे दी।
विज्ञापन

यह दृश्य श्रीरामलीला महोत्सव कमेटी द्वारा कराए जा रहे रामलीला महोत्सव में शनिवार की रात दिखाया गया। शिवमहापुराण पर आधारित इस नाटक के मंचन में विध्नहरण भगवान श्रीगणेश के जन्म की कथा दिखाई गई। इसमें आदिशक्ति ने पहले दक्ष के घर में सती के रूप में जन्म लिया। पिता से विद्रोह करके सती ने महादेव से विवाह किया।

सती के भस्म होने से बौखलाए महादेव ने दक्ष की सारी सेना मार दी। साथ ही उसका राजपाट तहस-नहस कर दिया। घमंड चूर होने पर दक्ष ने महादेव से क्षमा मांगी। बाद में आदिशक्ति ने अगला अवतार हिमांचल के घर में माता पार्वती के रूप में लिया। विवाह के बाद श्री गणेश का जन्म हुआ और उन्होंने अपनी बाल लीलाएं दिखाईं।
कार्यक्रम में भगवान शंकर का किरदार विजय शर्मा ने निभाया। रामबली ने पार्वती, दिनेश शर्मा ने सती, विद्यार्थी गोस्वामी और नारद का किरदार रामप्रकाश झा ने निभाया।
रामलीला में आज
भक्त प्रहृलाद की कथा का मंचन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us