बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

लाखों रुपये दबाए बैठे हैं केबिल ऑपरेटर

Badaun Updated Fri, 12 Oct 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

बदायूं। केबिल कनेक्शनों की संख्या में कमी होने से मनोरंजन कर विभाग की आमदनी को पहले ही झटका लग चुका है, रही-सही कसर केबिल ऑपरेटरों ने विभाग की बकाया रकम दबाकर पूरी कर दी। विभाग का करीब तीन लाख रुपये से ज्यादा कर ऑपरेटरों पर बकाया है, जिसकी वसूली करने में महकमे को पसीना छूट रहा है।
विज्ञापन

तीन साल के दौरान केबिल कनेक्शनों की संख्या में करीब पचास फीसदी की कमी आ चुकी है, जिससे विभाग की आमदनी के ग्राफ में काफी गिरावट आई है। जिले के दो बड़े केबिल ऑपरेटरों पर कई साल से दो लाख से भी ज्यादा का बकाया है। इसमें एक ऑपरेटर पर डेढ़ लाख रुपये और दूसरे पर 56 हजार रुपये का बकाया है। विभाग इन दोनों ही केबिल ऑपरेटरों को कई बार नोटिस जारी कर चुका है, लेकिन अभी तक इसकी वसूली नहीं हो सकी है। इसके अलावा 66 हजार से भी ज्यादा की टैक्स वसूली के लिए आधा दर्जन ऑपरेटरों की आरसी भी जारी की गई, मगर नतीजा फिर भी सिफर ही रहा।

मंडलायुक्त के पास फंसा मामला
गोपाल, प्रवीन सहित कई केबिल ऑपरेटर हैं, जिन्हें करीब एक लाख 91 हजार का टैक्स मनोरंजन कर विभाग को देना है लेकिन इन ऑपरेटरों पर खुद पर लगाए गए कर की रकम को बेहद ज्यादा बताया। इस आपत्ति के साथ यह मामला अब मंडलायुक्त के यहां लंबित है।
सिनेमाघर से मिलने वाले टैक्स से मिलती राहत
जिले में संचालित आठ सिनेमाघरों से मिलने वाले टैक्स से मनोरंजन कर विभाग को काफी राहत मिलती है। विभाग को सिनेमाघरों से करीब पौने तीन लाख का राजस्व हर माह मिलता है।
--------------
सूची :
केबिल ऑपरेटर-42
सिनेमाघर -8
वीडियो लाइब्रेरी-70
-------------
टैक्स वसूली को प्रयास किए जा रहे हैं। केबिल ऑपरेटरों पर काफी बकाया होने से विभाग को काफी परेशानी उठानी पड़ रही है।
एके बंसल, मनोरंजन कर अधिकारी

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us