पहले बाढ़ ने रुलाया अब व्यवस्था ने

Badaun Updated Fri, 12 Oct 2012 12:00 PM IST
बदायूं। दैवीय आपदा राहत के नाम पर भले ही अभी तक एक करोड़ की जारी हुई हो लेकिन यहां बड़ संख्या में बाढ़ पीड़तों को आर्थिक मदद ही नहीं मिली। ऐसे में ये ग्रामीण बदहाली की जिंदगी जी रहे हैं। बाढ़ में फसल, जमीन व घर गंवाने वाले ग्रामीणों की जिंदगी पटरी पर नहीं आ रही है।
इस साल भी कादरचौक में जोरीनगला, लक्ष्मणनगला, रामसहाय नगला के अलावा दातागंज व उसहैत में कई इलाके बाढ़ से प्रभावित हुए थे। इसमें दर्जनों किसानों की जमीन पर खड़ फसल को काफी नुकसान पहुंचा था। इस साल अप्रैल से अभी तक दैवीय आपदा राहत के तहत एक करोड़ रुपये की धनराशि जारी हुई है। इसमें बाढ़ के साथ ही अग्निपीड़त भी शामिल है। गंभीर बात यह है कि प्रशासन ने इस राहत कोष से सिर्फ 14 लाख रुपये की धनराशि गृह अनुदान के लिए जारी की गई है, जो सिर्फ तेलीनगला के ग्रामीणों को मिली। बड़ संख्या में बाढ़ पीड़त अभी भी गृह व फसलों के नुकसान के लिए आर्थिक मदद के लिए भटक रहे हैं। आए दिन अफसरों के यहां दरख्वास्त देते वे थक-हार चुके हैं लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही।
फसल के नुकसान को नहीं मिली मदद
कादरचौक के लक्ष्मणनगला के बाढ़ पीड़त रामवीर सिंह यादव ने कहा कि बाढ़ के पानी में फसल चौपट हो गई थी। इस नुकसान की भरपाई के नाम पर शासन से एक रुपये की आर्थिक मदद उसे नहीं मिली है। ऐसे में उसे परिवार चलाना मुश्किल हो गया है।
----------
आर्थिक मदद न मिलने को पड़ रहा भटकना
मुंशीनगला के कलाम हुसैन ने बताया कि बाढ़ से हुए नुकसान के बाद एक दाना भी अन्न पैदा नहीं हुआ। सब कुछ नष्ट हो गया लेकिन सरकार से कोई आर्थिक मदद नहीं मिली है। ऐसे में वे जबरदस्त आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहे हैं।
वर्जन-----
ज्यादा से ज्यादा बाढ़ पीड़तों को राहत देने की कोशिश की गई है। हां यह सच है कि अभी काफी लोगों को मदद नहीं मिल सकी है।
जयंत कुमार दीक्षित, एडीएम राजस्व

Spotlight

Related Videos

कनाडा के दूसरे सबसे युवा पीएम हैं जस्टिन ट्रूडो, इसलिए दुनियाभर में होता है इनका सम्मान

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो सात दिवसीय यात्रा पूरी कर अपने देश लौट चुके हैं। आरोप है कि कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो को भारत यात्रा के दौरान मोदी सरकार की तरफ से वो तवज्जो नहीं दी गई, जो किसी अन्य राष्ट्राध्यक्ष को दी जाती है।

25 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen