अपरहण कर ट्रक ड्राइवर की हत्या

Badaun Updated Sat, 29 Sep 2012 12:00 PM IST
उझानी(बदायूं)। उझानी-बमनौसी मार्ग के पास झूड़ों में युवक की लाश मिलने से सनसनी फैल गई। मृतक की शिनाख्त उसावां थाना क्षेत्र के गांव नवीगंज निवासी ट्रक ड्राइवर सत्यपाल के रूप में हुई है। वह पंजाबी कालोनी में किराये के मकान में पत्नी के रहता था। पूर्व के मकान मालिक के बेटों से उसका विवाद था। मृतक के साले ने सत्यपाल की अपहरण कर हत्या में पूर्व मकान मालिक के दो बेटों को नामजद कराया है।
अपहरण और हत्या की यह घटना बृहस्पतिवार रात की है। सत्यपाल(28) पुत्र दुन्ने शाम को ट्रक बाइपास पर खढ़ा कर पंजाबी कालोनी स्थित घर पहुंचा। कुछ देर बाद में वह घर से चला गया। रात में करीब नौ बजे उसने शाहजहांपुर में मदनापुर थाना क्षेत्र के गांव मोहनिया निवासी अपने साले गुरुदेव को फोन पर बताया कि दो युवक उसे जबरन एक टैंपो में डालकर ले जा रहे। सत्सपाल ने दोनों के नाम भी बता दि।
गुरुदेव बदायूं में रहता है और उसी मालिक का दूसरा ट्रक चलाता है जिसके एक ट्रक पर उसका बहनोई ड्राइवर है। गुरुदेव ने बताया उसके बाद काफी कोशिश की मगर सत्यपाल का फोन नहीं लगा। लाश बमनौसी रोड़ पर सड़क किनारे झूड़ों में पड़ी मिलने की सूचना मिलने पर वह मौके पर आया।
पुलिस ने लाश को कब्जे में लेकर मृतक के पूर्व मकान मालिक अनोखेलाल शर्मा के बेटे गौरव और विनय के खिलाफ गुरुदेव की तहरीर पर केस दर्ज कर लिया है। इसमें एक अज्ञात को भी शामिल किया गया है। कोतवाल मुकेश सक्सेना ने बताया कि विनय और गौरव की सत्यपाल के साथ रंजिश की बात अभी सामने नहीं आई है। हत्या की सूचना मिलते ही मृतक के बूढ़े मां-बाप और भाई भी रोते-बिलखते आ गए। मृतक सत्यपाल के संतान में आठ महीना की इकलौती बेटी है। मृतक के भाई ने बताया कि सत्यपाल सभी भाई-बहनों में सबसे छोटा था। पुलिस घटना से जुड़े कुछ अहम पहलुओं पर भी जांच कर रही है।
सीमा विवाद में सड़क किनारे पड़ी रही लाश
राजस्व कर्मियों ने पैमाइश कर तय की सीमा
उझानी(बदायूं)। शुक्रवार सुबह ट्रक ड्राइवर सत्यपाल की लाश सड़क किनारे झूंडों में पड़ा देख बमनौसी के चौकीदार ने कादरचौक थाने को फोन कर दिया। अल्लापुर चमारी की प्रधान ने कोतवाली पुलिस को जानकारी दी, लेकिन दोनों में से किसी भी थाने की पुलिस लाश उठाने को तैयार नहीं दिखी। पुलिस के बीच सीमा क्षेत्र का विवाद दोपहर बाद तक चलता रहा।
दोनों थानों की पुलिस के बीच सीमा ेतय करने के लिए तहसीलदार के जरिए राजस्व कर्मियों की टीम को बुलाना पड़ा। इसके बाद बाकायदा पैमाइश भी कराई गई।
इस बीच चश्मदीद राहगीरों में बमनौसी निवासी प्रेमपाल ने बताया कि यह सब अच्छा नहीं रहा। पुलिस चाहती तो पहले लाश को कब्जे में लेती फिर सीमा विवाद का मामला तय हो जाता। इसमें पुलिस की संवदेन शून्यता भी उजागर हुई। यही वजह रही कि दोपहर तक मृत युवक की शिनाख्त भी नहीं हो पाई थी।

Spotlight

Related Videos

दावोस पीएम मोदी की तारीफ में सुपरस्टार शाहरुख खान ने पढ़े कसीदे

दावोस में 'विश्व आर्थिक मंच' सम्मेलन में बच्चों और एसिड अटैक सर्वाइवर्स के लिए काम करने के लिए क्रिस्टल अवॉर्ड से नवाजे गए बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान..

24 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls