विज्ञापन
विज्ञापन

बीडीसी सदस्यों का हंगामा, बैठक का बहिष्कार

Badaun Updated Sun, 16 Sep 2012 12:00 PM IST
उझानी(बदायूं)। क्षेत्र पंचायत की शनिवार को ब्लाक में हुई बैठक हंगामेदार रही। सदस्यों ने ब्लाक प्रमुख की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए सचिव को कार्रवाई रजिस्टर के प्रस्ताव भी पढ़ने नहीं दिए। आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू होता, उससे पहले ही एमएलसी बनवारी सिंह यादव पहुंच गए। उनकी मौजूदगी में सपा समर्थक सदस्यों ने बैठक का बहिष्कार कर दिया। गेट पर नारेबाजी भी की। इसे लेकर अफरातफरी का माहौल रहा।
विज्ञापन
विज्ञापन
बीडीसी की बैठक दोपहर अपने निर्धारित वक्त पर शुरू हुई। ब्लाक प्रमुख छोटी वर्मा से विचार-विमर्श के बाद एडीओ पंचायत ने कार्रवाई रजिस्टर पर सदस्यों के हस्ताक्षर कराने शुरू किए ही थे कि विरोधी गुट के सदस्यों ने प्रस्तावों को गैर जरूरी बताते हुए सवाल खड़ा कर दिया। पिछली कार्ययोजना पर भी सदस्यों ने सवाल उठाए गए। एमएलसी बनवारी सिंह यादव भी पहुंचे। उन्होंने ब्लाक प्रमुख विरोधी सदस्यों का पक्ष सुना। सदस्य हंगामा करने लगे। उन्होंने एमएलसी की मौजूदगी में ही बहिष्कार कर दिया।
सपा समर्थक बीडीसी और प्रधान बैठक कक्ष के बाहर आकर ब्लाक प्रमुख के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। बाद में ब्लाक प्रमुख बीडीओ महेंद्र पाल गुप्ता के कक्ष में पहुंच कर कार्रवाई रजिस्टर को लेकर वार्ता करने लगीं तब भी सदस्य कक्ष में डटे नजर आए। करीब दो घंटा तक अफरातफरी का माहौल रहा।


बहिष्कार नहीं, बैठक की स्थगित
क्षेत्र पंचायत की बैठक शुरू हुई तो अधिकतर सदस्यों ने हस्ताक्षर कर दिए। कोरम पूरा नहीं हो पाया, सो बैठक को स्थगित कर दिया गया। ऐसे में पिछली कार्ययोजना पर सवाल का प्रश्न ही नहीं उठता। विकास भी नियमानुसार कराया गया।
छोटी वर्मा, ब्लाक प्रमुख


छोटी वर्मा के कार्यकाल की हो जांच

बीडीसी की बैठक में शनिवार को जो हुआ, वह सदस्यों की पीड़ा उजागर हो जाना है। प्रमुख छोटी वर्मा के कार्यकाल में हुए विकास कार्यों की जांच होनी चाहिए। अधिकतर सदस्य बदलाव चाहते हैं। इसका नमूना देखने को मिल गया।
कृष्णपाल यादव उर्फ गुरु, पूर्व ब्लाक प्रमुख

प्रमुख विरोधी सदस्यों ने नहीं करे हस्ताक्षर

बहिष्कार करने वाले सदस्यों ने कार्रवाई रजिस्टर पर हस्ताक्षर भी नहीं किए। एमएलसी बनवारी सिंह यादव बोर्ड में पदेन सदस्य हैं, सो उन्होंने भी शिरकत की।
महेंद्र पाल गुप्ता, क्षेत्र पंचायत अधिकारी
---------------------
हंगामा संकेत है अश्विास प्रस्ताव का
उझानी। शनिवार को बीडीसी की बैठक में जिस तरीके का माहौल देखने को मिला, वह आगे चल कर अविश्वास प्रस्ताव की राजनीति का संकेत देने के लिए काफी है। ऐसे में बसपा समर्थक ब्लाक प्रमुख छोटी वर्मा की परेशानी जहां बढेगी वहीं सपा समर्थक खुश नजर आने लगे हैं। बस, अब यह देखना है कि शह और मात का असल खेल कब शुरू हो।
सपा सरकार बनने के बाद ही ब्लाक की राजनीति में बदलाव की कवायद अंदरूनी तौर पर शुरू हो गई थी। अब सरकार बने छह महीना हो चुके हैं, ऐसे में अविश्वास प्रस्ताव को लेकर प्रमुख विरोधी सदस्य ज्यादा इंतजार के मूड में नजर नहीं आते। यहां बता दें कि छोटी वर्मा ने 18 मार्च-11 को शपथ ली थी।
सबसे अहम बात विरोधी सदस्यों की अगुवाई एमएलसी बनवारी सिंह यादव द्वारा करना बताई जा रही है। वह सपा के जिलाध्यक्ष भी हैं। अहम बात यह भी कि पिछले दिनों ब्लाक प्रमुख छोटी वर्मा और उनके पति हीरालाल वर्मा ने शेखूपुर से सपा विधायक आशीष यादव से ब्लाक परिसर में पार्क और पूर्व ब्लाक प्रमुख के गांव बुर्राफरीदपुर में दो सड़कों का लोकार्पण भी कराया था। तब किसी नए राजनीतिक माहौल की सुगबुगाहट शुरू हुई थी।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

लोकसभा चुनाव में आजम खान से हारीं जया प्रदा करेंगी BJP में 'गद्दारी' की शिकायत

लोकसभा चुनाव 2019 में हाई प्रोफाइल सीट रामपुर से भाजपा प्रत्याशी जया प्रदा का बयान सामने आया है। जया प्रदा ने भाजपा के भीतरघात को अपनी हार का कारण बताया है।

24 मई 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree