प्रसूता की मौत पर नर्सिंग होम में तोड़फोड़

Badaun Updated Wed, 05 Sep 2012 12:00 PM IST
बदायूं। प्रसूता की मौत के बाद शहर के गुप्ता नर्सिंग एवं मैटेरनिटी सेंटर में बवाल हो गया। हंगामा हुआ तो अस्पताल का मुख्य गेट बंद कर दिया गया। इस दौरान गुस्साए परिजनों ने तोड़फोड़ की। परिजनों का कहना है कि गर्भवती के ऑपरेशन के बाद मुंह से खून निकला और उसने दम तोड़ दिया। चिकित्सक यदि समय पर पहुंचते तो उसे बचाया जा सकता था। अफरातफरी के दौरान पहुंची सिविल लाइन पुलिस ने कार्रवाई का आश्वासन दिया देकर जैसे-तैसे मामला शांत कराया। मृतका के पति ने थाने में तहरीर दी है। मृतका का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है।
शहर के मोहल्ला जालंधरी सराय निवासी पंचायत विभाग में कंप्यूटर ऑपरेटर योगेंद्र कुमार की 27 वर्षीय पत्नी रेनू को डिलीवरी के लिए गुप्ता नर्सिंग होम में दिन में 11 बजे भर्ती कराया गया था। परिजनों के अनुसार दोपहर एक बजे डॉ. सुनीति गुप्ता ने उनका ऑपरेशन किया। रेनू ने लड़के को जन्म दिया। उसके एक घंटे बाद उसे वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। शाम चार बजे रेनू को अचानक उल्टी हुई और दम घुटने लगा। परिजनों का कहना है कि इस दौरान चिकित्सकों को बुलाया जा रहा था, लेकिन आधे घंटे बाद भी नहीं पहुंचे। आखिर में रेनू के मुंह से खून निकला और उसने दम तोड़ दिया।
परिजनों का कहना है कि तबियत बिगड़ने पर रेनू को दूसरे अस्पताल में ले जा रहे थे, लेकिन अस्पताल प्रशासन ने गेट बंद करा दिए। बताते हैं कि उसी के बाद पैथालॉजी और एक वार्ड का शीशा तोड़ दिया गया। बवाल बढ़ने पर अफरातफरी मच गई। सूचना पर सीओ सत्य सेन और सिविल लाइन एसओ सतीश यादव मय फोर्स के पहुंचे। सभी पक्षों को शांत कराया। घंटों चले इस बवाल के बाद रेनू के पति योगेंद्र कुमार ने डॉ. सुनीति गुप्ता के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है।
योगेंद्र की पिछले साल हुई थी शादी
जालंधरी सराय निवासी पंचायत विभाग के वरिष्ठ लिपिक रोहताश के पुत्र योगेंद्र कुमार की शादी पिछले साल बरेली के बिहारीपुर निवासी ओमप्रकाश की पुत्री रेनू से हुई थी। योगेंद्र और रेनू ने जिंदगी भर साथ निभाने का वायदा किया था। योगेंद्र ने कभी सोचा भी नहीं था कि उन्हें ये दिन देखना पड़ेगा। घर में खुशियां आने से पहले ही गम में बदल गई। रेनू के भाई विनीत समेत पूरा परिवार का रो-रोकर बुरा हाल था।
नहीं मिलने दिया डॉ. सुनीति से
रेनू के भाई विनीत डॉ. सुनीति गुप्ता से मिलने की जिद लगाए हुए थे। उनका कहना था कि एक बार उनसे मिला दीजिए ताकि उन्हें मानवता का अहसास कराया जा सके, लेकिन नहीं मिलाया गया। विनीत ने कहा कि सोचा था कि बड़ी डॉक्टर है, इलाज अच्छा होगा। विनीत की मां ने जरूर डॉ. सुनीति गुप्ता से मुलाकात कर उन्हें भला-बुरा कहा।

20 हजार रुपये लेने का भी आरोप
मृतका के ससुराल पक्ष और मायके वालों ने चिकित्सकों पर 20 हजार रुपये लेने का आरोप लगाया। कहा कि रकम पूरी जमा करने के बाद भी रेनू का इलाज सही नहीं किया। चिकित्सकों को रेनू की हालत बिगड़ने पर बुलाया गया, लेकिन वह हंस रहे थे।
गुप्ता नर्सिंग होम में शुरु से ही रेनू की दवाएं चल रही थीं। सोमवार को अल्ट्रासाउंड यहीं कराया तो सब ठीक था। मंगलवार की सुबह उसे भर्ती कराया तो ऑपरेशन किया। उसके बाद रेनू का पेट फूल गया और मुंह से खून निकला और उसकी मौत हो गई। डॉक्टरों इलाज में लापरवाही बरती है। -योगेंद्र कुमार, मृतका के पति
सोमवार की रात रेनू को दूसरे अस्पताल में डिलीवरी को ले जाया गया था। दाई की मदद ली गई थी, हालत गंभीर होने पर परिजन यहां लेकर पहुंचे। मैंने ऑपरेशन के लिए चिकित्सक बाहर से बुलाए। ऑपरेशन सही हुआ था, इलाज में कोताही नहीं बरती गई। आरोप निराधार हैं।-डॉ. सुनीति गुप्ता
तहरीर के आधार पर डॉ. सुनीति गुप्ता के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद विवेचना होगी। -सतीश यादव, एसओ सिविल लाइन

Spotlight

Related Videos

VIDEO: यूपी में देवी देवताओं की फोटो फाड़ने वाले युवक का हुआ ये हाल

मुजफ्फरनगर से एक घटना का वीडियो सामने आया है जिसको देखकर आपकी रूह कापं उठेगी। वीडियो में एक युवक को कुछ तथाकथित हिंदू संगठन के लोग जमीन पर गिरकार बेरहमी से पीट रहे हैं। मामला जानने के लिए देखिए ये रिपोर्ट।

16 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper