विज्ञापन
विज्ञापन

नालों की तो नहीं, रकम की सफाई

Badaun Updated Wed, 29 Aug 2012 12:00 PM IST
बदायूं। शहर का ड्रेनेज सिस्टम पूरी तरह फेल हो गया है। बरसात में नालों की सफाई न होने से नाले उफनते रहे और जलभराव होता रहा। नगरपालिका ने नालों की सफाई का ठेका 15 लाख में दिया था, लेकिन काम अभी तक पूरा नहीं किया जा सका। इस ठेके में 24 में से आधे ही नाले सफाई के लिए शामिल किए गए। जलभराव की समस्या से निपटने को पालिका के पास दो पंपसेट हैं, लेकिन प्रयोग में नहीं लाए जाते। अफसरों का तर्क है कि ठेकेदारों ने काम पूरा नहीं किया उन्हें नोटिस जारी किए गए हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
ये हैं शहर के नाले
शहर के मुख्य दो नाले हैं, इसमें जफा की कोठी से लालपुल और मोहल्ला सोथा का शामिल है। इन दो में अन्य 22 नाले गिरते हैं। इसमें चक्कर की सड़क, टिकटगंज, ब्राह्मपुर, शहवाजपुर, नेकपुर, लालपुल, जवाहरपुरी, छह सड़का आदि शामिल हैं। आधा दर्जन नाले ऐसे हैं जिनकी सफाई वर्षों से नहीं हुई या फिर उनकी सफाई के नाम पर औपचारिकताएं निभाई गईं।

टेंडर हुआ लेट
बरसात से एक माह पूर्व नालों की सफाई नगरपालिका को कराने के शासन से आदेश मिले थे, लेकिन इसका टेंडर जून माह में दिया गया। जबकि बरसात का समय शुरु हो गया था। गनीमत थी कि मानसून इस बार लेट पहुंचा। ठेका पीजी इंटर प्राइजेज, बिलाल इंटर प्राइजेज, लक्ष्मण समेत आधा दर्जन संस्थाओं को दिया गया। इस बार नालों की सफाई तली झाड़ नहीं करानी थी। काम शुरु हुआ, एक-दो नालों के ऊपर से कूड़ा-कचरा हटाया गया। अधिकारियों ने भी जेसीबी घुमाई, लेकिन नतीजा सिफर रहा। बरसात हुई तो पूरा शहर तालाब बन गया।

जनता की कमाई पानी में बहाई

हुसैनी गली निवासी मुकेश जौहरी का कहना है कि जनता की कमाई को पानी में बहाया जा रहा है। नालों की सफाई के नाम पर औपचारिकता पूरी की गई।

धरातल पर होना चाहिए काम

प्रोफेसर कालोेनी निवासी मुकेश वार्ष्णेय का कहना है कि जलभराव से शहर को निजात तभी मिलेगी जब मिलने वाली रकम पूरी धरातल पर खर्च होगी। कागजों में काम नहीं चलने वाला।

तली झाड़ सफाई नहीं होती

सिविल लाइन निवासी डा. गोपाल कृष्ण मिश्रा का कहना है कि नालों की तली झाड़ सफाई कभी नहीं होती। जबकि ठेका हर साल होता है। जनता को मूर्ख बनाया जा रहा है।

घरों में घुसता है पानी

विजय नगर निवासी विनीत गुप्ता का कहना है कि बारिश का पानी घरों में घुसता है। जनजीवन प्रभावित होता है, लेकिन अफसरों को इसकी चिंता नहीं है।


जल्द पूरा कर लेंगे काम
नालों की सफाई का जिन ठेकेदारों को टेंडर दिया गया उन्होंने अब तक 60 फीसदी ही काम पूरा किया है। उन्हें नोटिस जारी किए गए हैं। अधूरा काम पूरा कराया जाएगा। इस बार मैंने खुद जाकर कई नालों की सफाई करवाई है। -जमीर आलम, प्रभारी ईओ

बिना सफाई रकम निकली
बिना नालों की सफाई के रकम निकाली गई है। धन का दुरुपयोग किया गया है। टेंडर भी लेट हुआ। अब मैं खुद नालों की तली झाड़ सफाई करवाऊंगा। -ओमप्रकाश मथुरिया, अध्यक्ष, नगरपालिका

Recommended

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।
UP Board 2019

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019
ज्योतिष समाधान

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

#WorldEarthDay : ऐसे हुई थी पृथ्वी दिवस की शुरुआत

विश्व पृथ्वी दिवस पर पर्यावरण संरक्षण और पृथ्वी को बचाने का संकल्प लिया जाता है। लेकिन क्या आपको पता है कि विश्व पृथ्वी दिवस की कब शुरुआत हुई...

22 अप्रैल 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election