एक टीचर के लिए दो बार ट्रांसफर आदेश

Badaun Updated Sat, 25 Aug 2012 12:00 PM IST
एक साल पहले विभाग ने कर दिया था बरेली के लिए रिलीव
सूची में नाम देखकर अफसरों में हड़कंप, खंगाले गए रिकार्ड
बदायूं। बेसिक शिक्षा परिषद ने एक शिक्षिका का दो बार स्थानांतरण कर दिया। पहले आदेश के बाद विभाग ने उसे रिलीव कर दिया था। उसके एक साल बाद फिर परिषद ने उसी जगह से तबादले के आदेश ईमेल के जरिए दिये। इस सूची से शिक्षिका का नाम विभाग के रिकार्ड से मिलाया गया तो अधिकारियों में हड़कंप मच गया। सूत्रों के अनुसार अधिकारी अब इस बात की जांच कर रहे हैं कि कहीं उस शिक्षिका के नाम से कोई अन्य महिला को तबादले का आदेश नहीं दे किया गया। शुक्रवार को दिनभर रिकार्ड खंगालने का सिलसिला जारी रहा।
प्राथमिक स्कूल जगत में रीमा मिश्रा प्रधानाध्यापक के पद पर तैनात थी। पिछले साल परिषद ने इनका अंतरजनपदीय स्थानांतरण आवेदन स्वीकार कर लिया और बरेली के लिए रिलीव कर दिया। वहां तैनाती लेने के लगभग एक साल बाद फिर बेसिक शिक्षा परिषद ने प्रधानाध्यापक को बरेली के लिए रिलीव करने के आदेश दिए हैं। विभाग ने जब अपने रिकार्ड से इसका मिलान किया तो रीमा पहले ही रिलीव हो चुकी हैं। विदित हो कि एक ही प्रमाण पत्र पर दो बहनों के बरेली और बदायूं में नौकरी करने का मामला प्रकाश में आया था। खुलासा होने पर एक को नौकरी छोड़नी पड़ी। कयास लगाया जा रहा है कि यह प्रकरण भी इसी तरह तो नहीं है, फिलहाल जांच जारी है।
इंसेट----
यहां भी हुई चूक
अंतरजनपदीय स्थानांतरण की सामान्य सूची छह अगस्त और मुख्यमंत्री संदर्भ सूची 14 अगस्त को जारी हुई। इन दोनों सूचियों में प्राथमिक स्कूल खलीलपुर में तैनात शिक्षिका श्रद्धा शर्मा का नाम आया है। जबकि एक ही सूची में नाम शामिल होना था। शिक्षिका ने गौतमबुद्ध नगर के लिए स्थानांतरण के लिए आवेदन किया था। सीएम संदर्भ सूची सबसे अहम हैं, जो मुख्यमंत्री कार्यालय के द्वारा जारी होती है। बेसिक शिक्षा परिषद या सीएम कार्यालय, कहां से चूक हुई है इसको लेकर भी विभाग परेशान है।
वर्जन----
मामला मेरे संज्ञान में नहीं है। ईमेल के बाद मुख्य स्थानांतरण आदेश सूची आने पर शिक्षकों को तभी रिलीव किया जाएगा जब उनके सभी रिकार्ड देख लिए जाएंगे। किस स्तर से गड़बड़ी हुई उसका भी पता लग जाएगा।
-कृपाशंकर वर्मा, बीएसए

Spotlight

Related Videos

VIDEO: नागालैंड की ये महिलाएं बाल दान क्यों कर रही हैं?

मरीजों के लिए अब खून ही नहीं बाल दान भी होने लगा है। बाल दान उन मरीजों के किया जाता है कैंसर के ट्रीटमेंट के चलते अपने बाल गंवा चुके हैं। नागालैंड में ऐसा ही एक अभियान चल रहा है। इस अभियान में ज्यादातर महिलाएं हिस्सा ले रही हैं।

28 मई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कि कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स और सोशल मीडिया साइट्स के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज़ नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज़ हटा सकते हैं और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डेटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy और Privacy Policy के बारे में और पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen