पब्लिक को फांसा, एसओ को बचाया

Badaun Updated Tue, 21 Aug 2012 12:00 PM IST
वजीरगंज (बदायूं)। अपने हक को लड़ने का अधिकार देश के हर नागरिक को है। लेकिन वजीरगंज में सार्वजनिक हित को प्रदर्शन कर रहे लोगों पर लाठी भांजने वाले एसओ अमर सिंह कार्रवाई से बचे हैं और कई निर्दोष लोगों पर मुकदमा दर्ज कर दिया गया।
यहां बता दें कि कस्बे में हो रही अंधाधुंध बिजली कटौती के विरोध में बीती 18 अगस्त को लोगों ने मुरादाबाद-फर्रुखाबाद हाइवे पर जाम लगाकर प्रदर्शन किया था। शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे नागरिकों को इसका तनिक भी आभास नहीं था कि पुलिस बिना किसी चेतावनी के महिलाओं से अभद्रता करेगी। विरोध करने पर एसओ और पीएसी लाठियां भांजेगी। एसओ की इस उलटी कार्रवाई का फायदा उन शरारती तत्वों ने उठाया जो लंबे अरसे से इलाके की फिजा बिगाड़ने के लिए प्रयासरत हैं। इन लोगों ने वाहनों पर तोड़फोड़ शुरू कर दी। इसका ठीकरा आम जनता के सिर फोड़ दिया गया। नतीजतन रविवार की रात ढाई सौ अज्ञात लोगों के खिलाफ जाम लगाना, तोड़फोड़ करना और एकजुट होकर शांति व्यवस्था बिगड़ने समेत कई धाराओं में मुकदमा दर्ज कर दिया गया। खास बात यह है कि इस मुकदमे में थानेदार अमर सिंह ही वादी बने हैं। हालांकि एसपी मंजिल सैनी ने बताया कि ईद के पर्व की वजह से एसओ के खिलाफ कार्रवाई नहीं हो सकी है। एक-दो दिन में उन्हें भीड़ से अभद्रता करने की सजा दी जाएगी।

अब तो जुल्म की इंतहा हो गई: अमरीश
व्यापार मंडल के अध्यक्ष अमरीश वार्ष्णेय ने बताया कि इलाके में व्यापारियों के साथ लूटपाट जैसी घटनाएं हो रही हैं। व्यापारी खुद को सुरक्षित महसूस कर रहे हैं। कहा कि वाहनों में तोड़फोड़ शरारती तत्वों ने की और मुकदमा आम आदमी पर दर्ज हुआ। यह जुल्म की इंतहा है। पुलिस को चाहिए कि इन शरारती तत्वों को चिह्नित करके कार्रवाई करे।

Spotlight

Related Videos

ये सुपरस्टार सिर्फ एक्टिंग ही नहीं, सिंगिंग के भी हैं सिकंदर

आजकल के एक्टर सिर्फ एक्टिंग ही नहीं करते बल्कि अपनी फिल्मों में गाना भी गाते हैं। शाहरुख से लेकर माधुरी, ऋतिक से लेकर आलिया तक सभी ने कभी न कभी गाना गाया है। आइए जानते हैं किस फिल्म में किस एक्टर ने गाया गाना...

24 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls