हड़ताल के लिए बैंक यूनियन ने बनाई रणनीति

Badaun Updated Tue, 21 Aug 2012 12:00 PM IST
बदायूं। लंबित मांगों को लेकर 22-23 अगस्त को होने वाले हड़ताल की सफलता को लेकर यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स ने बैठक की। इसमें रणनीति बनाई गई।
जिलाध्यक्ष राजेश वर्मा ने कहा कि सरकार बैंकिंग सुधार के नाम पर कानूनों में परिवर्तन करके कारपोरेट्स एवं निजी औद्योगिक घरानों को बैंक खोलने के लाइसेंस जारी करके एवं ग्रामीण शाखाओं को बंद करके निजीकरण को बढ़ावा देना चाह रही है, जिसे स्वीकार नहीं किया जाएगा। उन्होंने बताया कि 21 अगस्त को एसबीआई की मुख्य शाखा पर भोजनावकाश में प्रदर्शन एवं 22 और 23 को सभी कर्मचारी सुबह दस बजे से उसी स्थल पर एकत्रित होंगे और धरना-प्रदर्शन करेंगे। जिला मंत्री घनश्याम शर्मा ने कहा कि सरकार हमारी लंबित मांगों पर कोई विचार नहीं कर रही है। जिसमें अनुकंपा आधार भर्ती, स्टाफ गृह ऋण के लिए समान दिशा-निर्देश, पेंशन योजना में सुधार आदि शामिल हैं। हिमांशु विश्वकर्मा ने कहा कि सरकार को बैंकों में आउटसोर्सिंग तुरंत बंद करनी चाहिए।
उदित वार्ष्णेय ने कहा कि खंडेलवाल समिति की संस्तुतियों को लागू न किया जाए। इस मौके पर संजीव शर्मा, शकील अहमद, राहुल, रामनाथ, संजय मलिक, सुरेश अरोरा, अशोक बाबू गुप्ता, सुनील बाबू रस्तोगी, ऋषिराम गुप्ता आदि रहे। अध्यक्षता राजेश वर्मा ने और संचालन घनश्याम शर्मा ने किया।

Recommended

Spotlight

Related Videos

VIDEO: ये खबरें आपको कर देंगी खुश, देखिए कैसे हैं आपके लिए फायदेमंद

इस दौड़ती भागती जिंदगी में जब आप सुकून चाहते हैं तो नेगेटिव खबरें आपको और परेशान कर देती हैं। ऐसे में वो खबर जो आपको देगी सुकून, देखिए आज की खुश खबर।

16 अगस्त 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree