विज्ञापन

सितारगंज में अलापुर के युवक की मौत

Badaun Updated Sat, 18 Aug 2012 12:00 PM IST
अलापुर (बदायूं)। उत्तराखंड के सितारगंज में एक प्राइवेट कम्पनी में काम करने वाले कस्बा निवासी एक युवक की बृहस्पतिवार रात मार्ग दुर्घटना में मौत हो गई। सूचना पर परिवार वाले रात में ही घटनास्थल पर रवाना हो गए। शुक्रवार को दोपहर बाद जैसे ही शव घर लाया गया तो शोक की लहर दौड़ गई। शव की कछला गंगाघाट पर अंत्येष्टि कर दी गई है।
विज्ञापन
विज्ञापन
नगर के वार्ड छह निवासी गौरव शर्मा उर्फ दीपू (34) उत्तराखंड के सितारगंज में एक प्राइवेट कम्पनी में काम करते थे। बृहस्पतिवार रात करीब 10 बजे वह नाइट की शिफ्ट में काम करने के लिए कम्पनी की बस से फैक्ट्री जा रहे थे। बस के पीछे बाली सीट पर बैठे थे और सिर खिड़की के बाहर था इसी बीच नींद आने से सामने से आ रहे एक ट्रक की बस के पिछले हिस्से में साइड लगने से उनका सिर और गर्दन बुरी तरह से दब गया, मौके पर ही उनकी मौत हो गयी। देर रात कंपनी के सहकर्मियों द्वारा घटना की सूचना फोन पर परिजनों को दी गई। घटना से पूरे परिवार में कोहराम मच गया। परिजन रात में ही सितारगंज को रवाना हो गए और शुक्रवार को दोपहर बाद गौरव का शव लेकर घर वापस आ गए। पापा का शव देखकर चार वर्षीय विधा और दो वर्षीय सगुन का बुरा हाल था।

ट्रक चालक के खिलाफ मुकदमा
सितारगंज। बीती रात फैक्ट्री के श्रमिकों को लेकर जा रही बस और ट्रक की भिड़ंत में एक श्रमिक की मौत के मामले में पुलिस ने ट्रक चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।
बृहस्पतिवार देर रात सिडकुल मार्ग पर गढ़ी बीयर के समीप बस और ट्रक की टक्कर में बस में सवार बदायूं उत्तर प्रदेश निवासी गौरव शर्मा (37) पुत्र ज्ञान चंद की मौत हो गई थी, जबकि साधारणपुर तहसील देवबंद जिला सहारनपुर निवासी मोहित कुमार (30) जोगेंद्र सिंह घायल हो गया था। शुक्रवार को बस स्वामी गोरीखेड़ा निवासी जियाउलहक पुत्र आमिल मलिक ने पुलिस को ट्रक के अज्ञात चालक के खिलाफ तहरीर सौंपी। पुलिस ने अज्ञात चालक के खिलाफ आईपीसी की धारा 279/ 338/ 304 ए के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया। कोतवाल नरेश चंद ने बताया फरार चालक की तलाश की जा रही है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

जब इंदिरा गांधी को गूंगी गुड़िया कहने वाले उनकी तारीफ में कसीदे पढ़ने लगे!

बंटवारे के बाद से ही पाक भारत में घुसपैठ करने लगा। पाकिस्तान सामने से भी और छिपकर भी भारत पर हमले करता रहा लेकिन इंदिरा गांधी ने उस पाकिस्तान को सबक सिखाते हुए उसका भूगोल ही बदल दिया। उस दिन के बाद इंदिरा गांधी गूंगी गुड़ियां से आयरन लेडी बन गईं।

15 दिसंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree