समितियों के गोदामों में गेहूं भरा, सड़ने का डर

Badaun Updated Sat, 11 Aug 2012 12:00 PM IST
बदायूं। जून से पहले गेहूं खरीद के दौरान जब स्टोरेज की दिक्कत सामने आई तो सहकारी समितियों के गोदामों मेें गेहूं का भंडारण किया गया था लेकिन अभी तक भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) ने तीन दर्जन से ज्यादा सहकारी समितियों से गेहूं का उठान ही नहीं कराया है। नतीजतन समितियों में रखे गेहूं के बरसात के मौसम में सड़ने की संभावना बनी हुई है। उधर, समितियों के गोदाम खाली न होने से वहां खाद की आपूर्ति भी ठप पड़ी हुई है।
जून तक चली गेहूं खरीद के दौरान प्रशासन के सामने स्टोरेज की एक बड़ी दिक्कत खड़ी हुई थी। इससे निपटने के लिए उस वक्त वैकल्पिक व्यवस्था के तहत सहकारी समितियों के गोदामों में गेहूं का भंडारण कराया गया था। चूंकि गेहूं भंडारण की जिम्मेदारी एफसीआई पर थी, लिहाजा उसे ही समितियों के गोदामों से गेहूं उठवाना था। मगर, अभी तक तीन दर्जन से ज्यादा समितियों में तकरीबन 40 हजार मीट्रिक टन रखा हुआ है। समितियों के लिए चिंता वाली बात यह है कि बरसात का मौसम है और गेहूं की सुरक्षा की उन्हें खास जानकारी भी नहीं है। लिहाजा इस गेहूं के सड़ने की संभावना बनी हुई है। इतना ही नहीं इन समितियों के गोदाम खाली न हो पाने से वहां खाद की आपूर्ति भी ठप पड़ी हुई है, जिससे किसानों को काफी दिक्कत झेलनी पड़ रही है।

एआर कोऑपरेटिव के सामने उठीं समस्याएं
पीसीएफ गोदाम पर शुक्रवार को सहकारी समितियों के सचिव की मीटिंग जिला सहायक निबंधक सहकारी समितियां नरेंद्र सिंह ने ली। इस दौरान समितियों के सचिवों ने श्री सिंह के सामने यह मामला उठाया और कहा कि समितियों के गोदामों से जल्द से जल्द गेहूं को उठवाया जाए ताकि उसे समय रहते सड़ने से बचाया जा सके। साथ ही गोदाम होने पर खाद की आपूर्ति हो सके।

वह कोशिश कर रहे हैं कि समितियों के गोदामों से गेहूं उठ जाए। इसके लिए वह जल्द डीएम से भी बात करेंगे।
नरेंद्र सिंह, एआर कोऑपरेटिव

Spotlight

Related Videos

भारतीय डाक में निकलीं 2,411 नौकरियां, ऐसे करें अप्लाई

करियर प्लस के इस बुलेटिन में हम आपको देंगे जानकारी लेटेस्ट सरकारी नौकरियों की, करेंट अफेयर्स के बारे में जिनके बारे में आपसे सरकारी नौकरियों की परीक्षाओं या इंटरव्यू में सवाल पूछे जा सकते हैं और साथ ही आपको जानकारी देंगे एक खास शख्सियत के बारे में।

24 जनवरी 2018