विज्ञापन
विज्ञापन

षडयंत्र का शिकार हुई मेरी बेकसूर बहन अनीता

Badaun Updated Wed, 01 Aug 2012 12:00 PM IST
जरीफनगर (बदायूं)। कोतवाली गुन्नौर क्षेत्र के गांव फरीदपुर में लगभग छह साल पूर्व झूठे सम्मान की खातिर हुई प्रेमी युगल की हत्या के मामले में सोमवार को युवती के पिता समेत परिवार के सात लोगों को फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद प्रेमिका अनीता की बड़ी बहन मीता ने बताया कि अनीता बेकसूर थी। वह परिवार के कुछ सदस्यों के षड्यंत्र का शिकार हुई थी। उसका किसी से प्रेम प्रसंग नहीं था। बल्कि परिवार के ही एक अन्य व्यक्ति की पुत्री से दीनदयाल का प्रेम प्रसंग चल रहा था। अपनी पुत्री को बेइज्जती होने से बचाने और मेरे पिता नत्थू की जमीन हथियाने के लिए परिवार के सदस्यों ने अनीता की बलि दे दी।
विज्ञापन
विज्ञापन
विदित हो कि 22 मई 2006 की रात गांव निवासी हरनारायण के पुत्र दीनदयाल और गांव के ही नत्थू की पुत्री अनीता को नत्थू और उसके परिवार के छह सदस्यों ने मिलकर जलती हुई आग में झोंककर हत्या कर दी थी। इस मामले में सोमवार को षष्ठम अपर सेशन जज एसएन त्रिपाठी की अदालत में सभी को फांसी की सजा सुनाई गई। नत्थू के परिवार के सदस्यों को इसकी जानकारी होने के बाद परिवार में मातम का माहौल है। उसकी सबसे बड़ी पुत्री मीता पत्नी वीरेश निवासी गांव रसूलपुर थाना जरीफनगर ने बताया कि हरनायारण और नत्थू के परिवार में अच्छे संबंध थे। परिवार के सभी सदस्य साथ-साथ खेतों पर काम करने जाते थे और वहां से साथ लौटते थे।
मीता ने बताया कि इस मामले में उनके पिता समेत परिवार केराकेश, वीरेश, जयप्रकाश, पप्पू, महावीर और गुलाबसिंह को भी सजा-ए-मौत दी गई है। उसने बताया कि अभियुक्तों में से एक व्यक्ति की पुत्री से दीनदयाल का प्रेम संबंध था। इस व्यक्ति ने पिता नत्थू को अनीता और दीनदयाल के बीच प्रेमसंबंध होने की बात कहकर उकसाया था। क्योंकि इस व्यक्ति की नीयत नत्थू की जमीन पर थी। उसका इरादा था कि नत्थू अपनी पुत्री की हत्या के मामले में फंस जाएगा, और वह आसानी से जमीन पर कब्जा कर लेगा।

कौन करेगा पिता को बचाने का प्रयास
पिता नत्थू को फांसी की सजा दिए जाने की खबर सुनने के बाद सबसे छोटी पुत्री पिंकी ने खाना-पीना छोड़ दिया है। पिंकी ने बताया कि उनकी मां थाना मुजरिया क्षेत्र के गांव मकुइयां निवासी अपने एक रिश्तेदार के घर रहती हैं। परिवार में पिता के अलावा कोई पुरुष नहीं है। ऐसे में अब उन्हें इस सजा से बचाने का प्रयास कौन करेगा।

Recommended

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्
Astrology

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्

कैसे होगा करियर, कैसा चलेगा व्यापार, किसे मिलेगी तरक्की और किसे मिलेगा प्यार ! जानिए विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से
Astrology

कैसे होगा करियर, कैसा चलेगा व्यापार, किसे मिलेगी तरक्की और किसे मिलेगा प्यार ! जानिए विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

बुरी शिकस्त के बाद सदमे में कांग्रेस, आज कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक समेत देखिए 5 बड़ी खबरें

अमर उजाला डॉट कॉम पर देश-दुनिया की राजनीति, खेल, क्राइम, सिनेमा, फैशन और धर्म से जुड़ी खबरें।

25 मई 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree