वेयर हाउस गोदाम में आग से लाखों का नुकसान

Badaun Updated Wed, 18 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

उझानी(बदायूं)। वेयर हाउस गोदाम में अचानक आग लग जाने से हजारों खाली कट्टा बारदाना क्षतिग्रस्त हो गया। हालांकि गेहूं सुरक्षित बच गया है लेकिन आग बुझानेे के दमकल से की गई पानी की बौछार से गेहूं भीग जरूर गया है। सुबह मंडल प्रबंधक पूरी टीम के साथ जांच को मौके पर पहुंचे। इससे महकमा को लाखों रुपये के नुकसान का अनुमान है। गोदाम में आग से रातभर हड़कंप मचा रहा।
विज्ञापन

यह अग्निकांड सोमवार रात करीब डेढ़ बजे वेयर हाउस के बरेली-मथुरा हाइवे स्थित छतुइया फाटक वाले गोदाम में हुआ। गोदाम संख्या 403 में धुंआ उठते देख गार्ड पीआरडी के जवान श्रीराम और नेत्रपाल ने गोदाम इंचार्ज मकरध्वज पाल को फोन कर दिया। अन्य कर्मी भी सूचना मिलते ही गोदाम परिसर की ओर दौड़ पड़े। दमकल बुलाने के लिए कोतवाली संपर्क साधा गया लेकिन उसे पहुंचने में करीब एक घंटा से अधिक का वक्त लगा। वेयर हाउस कर्मियों ने सबमर्सिबल चलाकर गोदाम में पानी की बौछार शुरू कर दी। बाद में दमकल की कोशिश से आग पर तड़के तक काबू पा लिया गया।
गोदाम इंचार्ज ने बताया कि आग लगने की वजह साफ नहीं हो पा रही है लेकिन एक दिन पहले गोदाम में सल्फास डाली गई थी। आग की चपेट में आकर कवर तिरपाल पूरी तरह जल गया। करीब 25 हजार कट्टे भी जल गए हैं। साथ ही गेहूं भी भीग गया। सैकड़ों कट्टा गेहूं बिखरा पड़ा। गेहूं एफसीआई का है। नए कट्टों में गेहूं को फिर से पैक कराने और बारदाना खरीदने के लिए महकमा के करीब 10 लाख खर्च हो सकते हैं। इधर, तड़के मंडल प्रबंधक दिवाकर मिश्र अपनी पूरी टीम के साथ गोदाम परिसर पहुंचे। उन्होंनेे मौका मुआयना किया। साथ ही उन्होंने गेहूं को जलने से बचाने के प्रयास सार्थक मानते हुए वेयर हाउस कर्मियों को पुरस्कृत भी किया।
महाप्रबंधक के पहुंचने की उम्मीद
वेयर हाउस गोदाम में आग के कारणों की जानकारी हासिल करने को महकमा के महाप्रबंधक लखनऊ से एक-दो दिन में यहां पहुंच सकते हैं। इसकी भनक लगते ही स्थानीय स्तर पर व्यवस्थाओं को चाकचौबंद किया जा रहा है।

गोदाम में आग लगने की सूचना समय पर मिल गई थी। भले ही दमकल लेट पहुंची लेकिन निजी संसाधनों से वेयर हाउस कर्मियों ने आग के विकराल रूप धारण करने से पहले ही काबू पा लिया। नहीं तो गेहूं भी जलकर खाक हो जाता।
-मकरध्वज पाल, गोदाम इंचार्ज।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us