शिक्षा की राह कठिन, 240 शिक्षकों के हुए तबादले

Badaun Updated Tue, 17 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

बदायूं। बेसिक के स्कूलों में इस सत्र में शिक्षा की राह कठिन नजर आ रही है। क्योंकि जिले में तैनात 240 शिक्षकों के तबादले बाहरी जिलों में हो गए हैं। बाकी 1030 शिक्षक प्रतिक्षारत हैं। इनके जाने के बाद जिले में लगभग साढ़े चार हजार शिक्षक ही बचेंगे, दूसरे जिलों से यहां आने वाले शिक्षकों की सूची नहीं मिली है। स्थानांतरण हुए शिक्षकों की लिस्ट बेसिक शिक्षा विभाग को नेट के माध्यम से मिलते ही अगली कार्रवाई शुरु हो गई है। चालू माह में इनको रिलीव किए जाने की योजना है। शिक्षकों के स्थानांतरण की यह प्रक्रिया बसपा शासनकाल में शुरु हुई थी, लेकिन सपा सरकार ने पूरी की।
विज्ञापन

जिले में प्राइमरी और उच्च प्राइमरी स्कूलों की संख्या लगभग 2500 है। इनमें साढ़े पांच हजार शिक्षक तैनात हैं। तमाम शिक्षक बाहरी जिलों के हैं। महिला शिक्षकों की संख्या भी अधिक है। बसपा शासनकाल में मुद्दा उठा था कि दूसरे जिलों में तैनात शिक्षकों को उनके गृह जनपद में भेजा जाए। इसको मंजूरी मिली तो जिले से 1270 ऑनलाइन आवेदन भरे गए, लेकिन विधानसभा चुनाव के बाद सपा की सरकार बनते ही स्थानांतरण प्रक्रिया पर ब्रेक लग गया। अब उन आवेदनों पर गौर किया गया और पहली स्थानांतरण की सूची जारी कर दी गई।
पहली सूची में जिन शिक्षकों के नाम हैं वह खुशी से फूले नहीं समा रहे। स्थानांतरण के लिए गाइड लाइन बना दी गई है। अब परेशानी इस बात की है कि जिले से 1270 शिक्षक चले जाएंगे, लेकिन यहां भेजे एक भी नहीं गए। कुछ जागरुक अभिभावकों का तो यह तर्क है कि शिक्षक यहां नहीं भेेजे गए तो इस बार इतने ही स्कूलों में तो पढ़ाई की राह कठिन हो जाएगी। समय से कोर्स पूरा नहीं होगा। बीएसए कृपाशंकर वर्मा का कहना है कि नेट के माध्यम से स्थानांतरित शिक्षकों की सूची मिल गई है। गाइड लाइन मिलने के बाद इन्हें रिलीव किया जाएगा। इनके जाने से पढ़ाई प्रभावित नहीं होगी। शिक्षकों के समायोजन कर दिए जाएंगे।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us