बांध की मरम्मत को मिला बजट नाकाफी

Badaun Updated Sat, 14 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

पिछले साल कई बांधों को बाढ़ ने पहुंचाया था नुकसान
विज्ञापन

बदायूं। जिले में पिछले साल आई भीषण बाढ़ से पथरामई और जोरीनगला बांध और उसावां तटबंध को काफी नुकसान पहुंचा था। इस बार जिले को बाढ़ की विभीषिका से बचाने के लिए इन बांधों की मरम्मत के लिए बाढ़ खंड ने जितनी लागत से प्रस्ताव बनाकर भेजे थे, उसकी आधी ही रकम मिली, वह भी काफी देर से। ऐसे में बाढ़ खंड ने बांध मरम्मत के कार्य कराए हैं, उनकी गुणवत्ता पर सवाल भी उठना स्वाभाविक है।
पिछले साल जिले में जबरदस्त बाढ़ का प्रकोप लोगों को झेलना पड़ा था। गंगा और रामगंगा ने भीषण कटान करते हुए सैकड़ों हेक्टेयर भूमि को निगल लिया था। किन्नर नगला में गंगा नदी के कटान से इर्द-गिर्द गांवों के लोग सिहर गए थे। जोरीनगला में गंगा ने पिछले साल 250 मीटर का कटान किया था। बाढ़ से उसावां, जोरीनगला और उसावां तटबंध को काफी नुकसान पहुंचा था। जिले में बाढ़ को रोकने के लिए यह बांध बेहद कारगर हैं लेकिन जिस तरह इन्हें नुकसान पहुंचा, उसे देखते हुए इस साल इनकी टिकाऊ मरम्मत की जरूरत थी। मगर, बाढ़ खंड से इन बांधों की मरम्मत के लिए जितने बजट की मांग की गई थी, उसकी करीब आधी रकम ही शासन ने जारी की है। इतना ही नहीं बाढ़ बचाव के कार्य के लिए जो धनराशि जनवरी के अंत या फरवरी में मिल जानी चाहिए, उसे मई में जारी किया गया। आधा-अधूरा बजट और देरी की वजह से बाढ़ बचाव के कार्यों की गुणवत्ता पर सवाल उठ रहे हैं।
0000
बांध मरम्मत के लिए बजट और जारी रकम
-उसहैत के पथरामई बांध की मरम्मत के लिए 11 स्पर सहित अन्य कार्यों के लिए नौ करोड़ 31 लाख की मांग गई, मिला सिर्फ छह करोड़ 50 लाख।
-कादरचौक में जोरीनगला बांध की रिपेयरिंग के लिए 25 स्पर समेत अन्य कार्र्यों के लिए करीब पांच करोड़ मांगे गए, जबकि जारी हुए तकरीबन तीन करोड़।
-उसावां तटबंध पर 0.5 किमी और 1.4 किमी पर मरम्मत के लिए करीब साढ़े छह करोड़ के बजट की मांग की गई थी, लेकिन तीन करोड़ ही मिले।
-उसावां में गंगा तट पर किन्नरनगला के लिए एक करोड़ 32 लाख की लागत से पांच स्पर निर्माण स्वीकृत।
0000
जिले में बाढ़ बचाव के लिए सिंचाई खंड ने इस साल बाढ़ बचाव के लिए कोई कार्ययोजना नहीं तैयार की और न ही बजट की डिमांड भेजी, जिसका नतीजा यह रहा कि इस साल बाढ़ बचाव से संबंधित किसी कार्य के लिए विभाग के पास कोई काम नहीं है।
00000
जोरीनगला में सही नहीं मिला था काम
करीब तीन करोड़ की लागत से निर्माणाधीन जोरीनगला बांध के हाल ही में डीएम मयूर माहेश्वरी ने मौके पर निरीक्षण किया था, जिसमें यहां काम की गुणवत्ता सही नहीं पाई गई थी। काम से नाराज होकर डीएम ने बाढ़ खंड के एक्सईएन के खिलाफ शासन से लिखा-पढ़ी की है।
00000
वर्जन----------
बाढ़ खंड ने जितने काम शुरू किए थे, लगभग वे सारे पूरे होने को हैं। देर से बजट मिलने के बावजूद काम की गुणवत्ता का पूरा ख्याल रखा गया है।
-डीके जैन, अधिशासी अभियंता, बाढ़ खंड
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us